Best Ahmad faraz shayari 2 lines in Hindi | अहमद फराज़ 2 लाइन …

0
1700

मैं बचपन में ही रहता तो अच्छा था “फराज़”
हज़ारों हसरतें बरबाद की मैंने जवान होकर।

Mai bachpan me hi rehta to accha tha “Faraz”
Hazaron hasratein barbad ki maine jawan hokar.

***

तेरी इस बेवफाई पे फिदा होती है जान अपनी “फराज़”
खुदा जाने अगर तुझमें वफा होती तो क्या  होता।

Teri is bewafai per fida hoti hai jaan apni “Faraz”,
Khuda jane agar tujhme wafa hoti to kya hota.

****

वो बात बात पे देता है परिंदों की मिसाल,
साफ़ साफ़ नहीं कहता मेरा शहर ही छोड़ दो।

Wo baat baat pe deta hai parindon ki missal,
Saaf saaf nahin kehata mera shehar hi chhod do.

****

Advertisement

हम से बिछड़ के उस का तकब्बुर बिखर गया फ़राज़,
हर एक से मिल रहा है बड़ी आजज़ी के साथ।

Hum se bichad ke us ka takabbur bikhar gaya “Faraz”,
Har ek se mil raha hai badi aajaji ke sath.

****

माना कि तुम गुफ़्तगू के फन में माहिर हो “फ़राज़”,
वफ़ा के लफ्ज़ पे अटको तो हमें याद कर लेना

Mana ki tum guftagu ke fan mein mahir ho “Faraz”,
Wafa ke lafz pe atako to humein yaad kar lena

****

उस शख्स से बस इतना सा ताल्लुक़ है “फ़राज़”,
वो परेशां हो तो हमें नींद नहीं आती।

Us shakhs se bas itna sa taluq hai “Faraz”,
Wo pareshan ho to humein neend nahin aati.

****

इतनी सी बात पे दिल की धड़कन रुक गई फ़राज़,
एक पल जो तसव्वुर किया तेरे बिना जीने का।

Advertisement

Itani si baat pe dil ki dhadkan ruk gai Faraz,
Ek pal jo tasvvur kiya tere bina jeene ka.

****

खाली हाथों को कभी गौर से देखा है ‘फ़राज़’,
किस तरह लोग लकीरों से निकल जाते हैं।

Khali hathon ko kabhi gaur se dekha hain ‘Faraz’,
Kis tarah log laqiron se nikal jate hai.

****

चलता था कभी हाथ मेरा थाम के जिस पर,
करता है बहुत याद वो रास्ता उसे कहना।

Chalta tha kabhi haath mera thaam ke jis par,
Karta hai bahut yaad wo rasta use kehana.

****

मुहब्बत में मैंने किया कुछ नहीं लुटा दिया ‘फ़राज़’,
उस को पसंद थी रौशनी और मैंने खुद को जला दिया।

Muhabbat mein maine kiya kuchh nahin luta diya ‘Faraz’
US ko pasand thi raushani aur maine khud ko jala diya.

Advertisement

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

1
2
3
4
5
6
साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here