Best Ahmad faraz shayari 2 lines in Hindi | अहमद फराज़ 2 लाइन …

0
827
ahmad-faraz-Shayari-in-Hindi

ahmad faraz shayari 2 lines | अहमद फ़राज़ शायरी 2 लाइन

कौन तोलेगा हीरों में अब तुम्हारे आंसू फ़राज़,
वो जो एक दर्द का ताजिर था दुकां छोड़ गया।

Kaun Tolega Heeron Mein Ab Hamare Aansoo Faraz?
Woh Jo Ek Dard Ka Taajir Tha Dukan Chhor Gaya.

***

किताबों से दलील दूँ या खुद को सामने रख दूँ ‘फ़राज़’ ,
वो मुझ से पूछ बैठी है मोहब्बत किस को कहते हैं।

Kitabon se daleel dun ya khud ko samne rakh dun ‘Faraz’
Wo mujh se punch baithi hai mohabbat kis ko kehate hai.

***
ज़िक्र उस का ही सही बज़्म में बैठे हो फ़राज़,
दर्द कैसा भी उठे हाथ न दिल पर रखना।

Zikr Uss Ka Hi Sahi Bazm Main Baithe Ho Faraz,
Dard Kaisa Bhi Uthe Haath Na Dil Par Rakhna.

***

बे-जान तो मैं अब भी नहीं फ़राज़,
मगर जिसे जान कहते थे वो छोड़ गया।

Be-Jaan Toh Main Ab Bhi Nahi Faraz,
Magar Jise Jaan Kehte The Woh Chhod Gaya.
***

वो जान गयी थी हमें दर्द में मुस्कराने की आदत है,
देती थी नया जख्म वो रोज मेरी ख़ुशी के लिए।

Woh Jaan Gayi Thi Hame Dard Mein Muskurane Aadat Hai,
Deti Thi Naya Zakhm Woh Roj Meri Khushi Ke Liye.
***

झेले हैं जो दुःख तूने ‘फ़राज़’ अपनी जगह हैं
पर तुम पे जो गुज़री है वो औरों से कम है।

Jhele hain jo dukh tune ‘Faraz’ apni jagah hain
Par tum pe jo gujari hai wo auron se kam hai.

***

तेरी तलब में जला डाले आशियाने तक
कहाँ रहूँ मैं तेरे दिल में घर बनाने तक।

Teri talab mein jala dale aashiyane tak,
Kahan rahoon main tere dil mein ghar banane tak.

***

ज़िन्दगी तो अपने कदमो पे चलती है ‘फ़राज़’
औरों के सहारे तो जनाज़े उठा करते हैं।

Zindgi to apne kadmo pe chalti hai ‘Faraz’
Auron ke sahare to janaze utha karte hain.

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here