Best Ahmad faraz shayari 2 lines in Hindi | अहमद फराज़ 2 लाइन …

0
1891

Itna tasalsul to meri sanson mein bhi nahin ‘Faraz’
Jis rawani se wo shakhs mujhe yaad aata hai

इतना तसलसुल तो मेरी साँसों में भी नहीं ‘फ़राज़’
जिस रवानी से वो शख्स मुझे याद आता है

****

ilaaj-e-Dard-e-Dil Tumse Maseeha Ho Nahi Sakta,
Tum Achha Kar Nahi Sakte Main Achha Ho Nahi Sakta.

इलाजे-दर्दे-दिल तुमसे मसीहा हो नहीं सकता,
तुम अच्छा कर नहीं सकते मैं अच्छा हो नहीं सकता।

****

Dil ki rishton ki nazakat wo kya jane ‘Faraz’
Narm lafzon se bhi lag jati hain chote aksar

दिल के रिश्तों कि नज़ाक़त वो क्या जाने ‘फ़राज़’
नर्म लफ़्ज़ों से भी लग जाती हैं चोटें अक्सर

****

Advertisement

Sau baar marna chaha nigahon mein doob kar ‘Faraz’
Wo nigah jhuka lete hain humein marne nahin dete

सौ बार मरना चाहा निगाहों में डूब कर ‘फ़राज़’
वो निगाह झुका लेते हैं हमें मरने नहीं देते

****

Kis Se Paimane Wafa Baandh Rahi Hai Bulbul,
Kal Na Pehchan Sakegi Gul-e-Tar Ki Surat.

किससे पैमाने वफ़ा बाँध रही है बुलबुल,
कल न पहचान सकेगी गुल-ए-तर की सूरत।

****

ये मासूमियत का कौन सा अंदाज है “फराज़”
पर काट के कहने लगे, अब तुम आज़ाद हो

Ye masoomiyat ka kaun sa andaz hai “Faraz”
Par kaat ke kehne lage, Ab tum aazad ho

****

Humne chaha tha ek aise shaksh ko “Faraz”
Jo aaine se bhi naazuk tha, magar tha patthar ka

Advertisement

हमने चाहा था इक ऐसे शख्स को “फराज”
जो आइने से भी नाजुक था, मगर था पत्थर का

****

Mere doston ki pehchan itni muskil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर

****

Mujhe apne kirdar pe itna to yakeen hai “Faraz”
Koi mujhe chhod to sakta hai, Magar bhula nahi sakta

मुझे अपने किरदार पे इतना तो यकीन है “फराज़”
कोई मुझे छोड तो सकता है, मगर भुला नहीं सकता

****

Wo jiske liye humne saari hadein tod di “Faraz”
Aaj usne keh diya apni had mein raha karo

वो जिसके लिए हमने सारी हदें तोड दी “फराज़”
आज उसने कह दिया अपनी हद में रहा करो

Advertisement

****

Waise to thik rahunga mai us se bichad ke “Faraz”
Bas dil ki sochta hoon, dhadakna chor na de

वैसे तो ठीक रहूँगा मैं उस से बिछड के “फराज़”
बस दिल की सोचता हूँ, धडकना छोड न दे

****

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

1
2
3
4
5
6
साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here