love shayari in hindi | beautiful romantic shayari on love | लव शायरी

0
428
Love-shayari-in-hindi

love shayari in hindi | beautiful romantic shayari on love | लव शायरी

पलकों को जब-जब आपने झुकाया है,
बस एक ही ख्याल दिल में आया है,
कि जिस खुदा ने तुम्हें बनाया है,
तुम्हें धरती पर भेजकर वो कैसे जी पाया है।

न जिद है न कोई गुरूर है हमे,
बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे,
इश्क गुनाह है तो गलती की हमने,
सजा जो भी हो मंजूर है हमे।

हर कदम हर पल साथ हैं,
दूर होकर भी हम आपके पास हैं,
आपका हो न हो पर हमें आपकी कसम,
आपकी कमी का हर पल अहसास है.

हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना।

माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!

संभाले नहीं संभलता है दिल,
मोहब्बत की तपिश से न जला,
इश्क तलबगार है तेरा चला आ,
अब ज़माने का बहाना न बना।

इश्क़ में ये अंजाम पाया है,
हाथ पैर टूटे, मुँह से खून आया है,
हॉस्पिटल पहुंचे तो नर्स ने फ़रमाया..
बहारों फूल बरसाओ, किसी का आशिक़ आया है!

नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम ही झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मरते।

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है!
कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है!
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से,
तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है!

आँखों की गहराई को समझ नही सकते,
होंटो से कुछ कह नही सकते,
कैसे बया करे हम आपको यह दिल का हाल की,
तुम्ही हो जिसके बगैर हम रह नही सकते!

मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही,
वो मुझे चाहे या मिल जाये, जरूरी तो नही,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो,
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नही!

हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये।

हर शख्स को दिवाना बना देता है इश्क
जन्नत की सैर करा देता है इश्क
दिल के मरीज हो तो कर लो महोब्बत
हर दिल को धड़कना सिखा देता है इश्क !!!

खोया इतना कुछ कि फिर पाना न आया,
प्यार कर तो लिया पर जताना न आया,
आ गए तुम इस दिल में पहली ही नज़र में,
बस हमें आपके दिल में समाना ना आया।

दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!

चुप ना होगी हवा भी, कुछ कहेगी घटा भी,
और मुमकिन है तेरा, जिक्र कर दे खुद़ा भी,
फिर तो पत्थर ही शायद ज़ब्त से काम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो, सब तेरा नाम लेंगे।

हर दर्द की दवा हो तुम,
आज तक जो मांगी मेरी एक लौटी दुआ हो तुम,
तुम्हे मिलने की तमन्ना नहीं उठती कभी,
क्यूंकि जो हर वक़्त साथ रहती है वो हवा हो तुम.

मेरा दिल जलाने वाले, मेरा दिल जला के रोए,
मुझे आजमाने वाले, मुझे आजमा के रोए,
मेरे सामने से गुजरे, मेरा हाल भी ना पूछा,
मैं यकीं करूं तो कैसे, के वो दूर जा के रोए।

Tujhe Mohabbat Karna Nahi Aata,
Mujhe Mohabbat Ke Siva Kuch Nahi Aata,
Zindagi Guzarne Ke Do Tarike Hote Hai,
Ek Tujhe Nahi Aata Aur Ek Mujhe Nahi Aata.

Kabhi Hasa Dete Ho, Kabhi Rula Dete Ho,
Kabhi Kabhi Neend Se Jaga Dete Ho,
Magar Jab Bhi Dil Se Yaad Karte Ho,
Kasam Se Zindagi Ka Ek Pal Badha Dete Ho.

Aakhir kyun mujhe tum itna dard dete ho,
Jab bhi mann mein aaye kyun rula dete ho,
Nigahen berukhi hain aur tikhe hain lafz,
Ye kaise mohabbat hain jo tum mujhse karte ho.

Khuda Ne Jab Ishq Banaya Hoga,
To Khud Ajmaya Hoga,
Hamari To Aukaat Hi Kya Hai,
Is Ishq Ne Khuda Ko Bhi Rulaya Hoga.

DiL Ki Kitab Me Gulab Unka Tha,
Raat Ki Neend Me Khuwab Unka Tha,
Kitna Pyar Karte Ho Jab Hum Ne Pocha,
Mar Jayen Ge Tumhare Bina Ye Jawab Unka Tha.

Tadap Ke Dekho Kisi Ki Chahat Me,
To Samajh Paoge Ke Intezar Kya Hota Hai,
Yuhi Mil Jaye Agar Koi Bina Tadpe,
To Kaise Jan Paoge Ke Pyar Kya Hota Hai.

Muskurate Palko Pe Sanam Chale Aate Hein,
Aap Kya Jaano Kahan Se Hamare Gum Aate Hain,
Aaj Bhi Us Mod Par Khade Hain,
Jaha Kisi Ne Kaha Tha Ke Tahro Hum Abhi Aate Hain.

Dil ke rishte ka koi naam nahi hota,
Maana ki iska kutch anjaam nahi hota,
Agar nibhane ki chahat ho dono taraf,
Tamaam umar koi rishta naakam nahi hota

Jab Khamosh Aankho Se Baat Hoti Hai.
Aise Hi Mohabbat Ki Shurwat Hoti Hai.
Tumhare Hi Khyalo Mein Khoye Rehte Hai.
Pata Nahi Kab Din Kab Raat Hoti Hai.

Tere Intejar Me Kab Se Udaas Bethe Hain,
Tere Deedar Me Aankhe Bichaaye Bethe Hain,
Tu Ek Najar Hum Ko Dekh Le Bas,
Es Aas Me Kab Se Bekarar Bethe Hain.

Sukun Milta Hai Jab Unse Baat Hoti Hai
Hazar Raaton Mein Wo Ek Raat Hoti Hai
Nigah Uthakar Jab Dekhte Hain Wo Meri Taraf
Mere Liye Wohi Pal Poori Kaaynat Hoti Hai.

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here