2 Lines Shayari, Two Line Short Shayari, dosti shayari ..

0
1473
two line shayari in hindi font

Two line shayari collections hindi – नमस्कार दोस्तो यदि आप Best 2 lines shayari collections hindi की तलाश कर रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह आये हैं. यहां हमने Large Collection of Latest two line shayari, two line shayari in hindi on fb, very sad 2 line shayari, ishq shayari two lines, ishq shayari two lines & 2 line shayari on life लेकर आये हैं. मुझे उम्मीद है कि आपको यह two line attitude shayari in hindi & 2 line dua shayari in hindi पसंद आयेंगी.

2 Lines Shayari, Two Line Short Shayari, dosti shayari ..

दोस्तो यहां बहुत ही सुन्दर 2 lines shayari collections hindi लेकर आये हैं. मुझे उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा शेयर किया गया two line shayari collections पसंद आयेगा. आप हमारे इन दो लाइन शायरियों को अपने दोस्तों के साथ फेसबुक व व्हाट्सएप पर शेयर कर सकते हैं. 

जिद में आकर उनसे ताल्लुक तोड़ लिया हमने,
अब सुकून उनको नहीं और बेकरार हम भी हैं।

होठों पे मुस्कान थी कंधो पे बस्ता था,
सुकून के मामले में वो जमाना सस्ता था।

हमारी चर्चा छोडो दोस्तों, हम ऐसे लोग है जिन्हें,
नफरत कुछ नहीं कहती और मोहब्बत मार डालती है।

बहुत कमजोर निकला तु तो ए दिल,
और तुझे लेकर मैं दुनिया संभालने निकला था।

किस किस से वफ़ा के वादे कर रखे हैं तूने,
हर रोज़ एक नया शख्स मुझसे तेरा नाम पूछता है।

मुझे किसी के बदल जाने का कोई गम नही,
बस कोई था जिससे ये उम्मीद नही थी।

तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है की अब रोया नहीं जाता।

तारे और इंसान में कोई फर्क नहीं होता,
दोनो ही किसी की ख़ुशी के लिऐ खुद को तोड़ लेते हैं।

Two line shayari in hindi on fb

in this section we are share Two line shayari in hindi on fb, I Hope You like best two line shayari ever. You Can share These shayari on facebook & whatsapp with our friends.

अपनी रातें उनके लिए ख़राब करना छोड़ दो दोस्तों,
जिनको ये भी परवाह नहीं की तुम सुबह उठोगे भी या नहीं।

खूबसूरती का तो हर कोई आशिक होता है,
किसी को खूबसूरत बनाकर इश्क किया जाय तो क्या बात है।

ज़र्रा ज़र्रा बिखर गया तेरी याद में,
कतरा कतरा ही सही दर्द में मोहलत दे दे।

किसी टूटे हुए मकान की तरह हो गया है ये दिल,
कोई रहता भी नहीं और कमबख्त बिकता भी नहीं।

तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है की अब रोया नहीं जाता।

उठा लो दुपट्टे को ज़मीन से कहीं दाग़ न लग जाए,
पर्दे में रखो चेहरे को कहीं आग न लग जाए।

तारे और इंसान में कोई फर्क नहीं होता,
दोनो ही किसी की ख़ुशी के लिऐ खुद को तोड़ लेते हैं।

कुछ यूँ उतर गए हो मेरी रग-रग में तुम,
कि खुद से पहले एहसास तुम्हारा होता है।

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here