कौंच के बीज का इस प्रकार सेवन करें, बढेगा स्टेमिना …

0
3017
Mucuna-Pruriens-benefits

Kaunch ke bij ke adbhut fayde – कौंच के बीज सामान्यतः स्त्री और पुरुष दोनों के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। यह आयुर्वेद की शॉप पर आसानी से मिल जाते हैं। कौंच भारत की लोकप्रिय औषधियों में से एक है। ज्यादातर कौंच का इस्तेमाल लंबे समय तक सेक्स पॉवर को बढ़ाये रखने के लिए किया जाता है। इसके साथ भी यह हमारी शरीर के अन्य रोगों के लिए भी बहुत हितकारी है, तो आइये जानलेते हैं इसके फायदे।

इसे भी पढ़ेंगर्मियों में होने वाली समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो अपनाएं ये उपाय

कौंच के बीज से विभिन्न रोगों में आराम मिलता है :

1. यदि किसी व्यक्ति को बिच्छू ने डंक मार दिया है तो इसके लिए मिट्टी के तेल या पानी में कौंच के बीज की गिरी को घिसकर डंक वाली जगह पर लगाने से बिच्छू का जहर उतर जाता है।
2. कौंच के पत्तों को पीसकर घाव पर लेप करने से घाव ठीक होता है।
3. यदि कौंच की जड़ को अपने पेशाब में घिसकर लिंग पर लेप करने से लिंगा का ढीलापन दूर होता है।
4. कौंच के बीजों की गिरी का आधा चम्मच चूर्ण एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करने से श्वेत प्रदर रोग में लाभ मिलता है।
5. कौंच के बीजों की गिरी का आधा चम्मच चूर्ण एक कप पानी के साथ दिन में 2 बार सेवन करने से मूत्र रोग ठीक होता है।
6. बांझपन की समस्या होने पर कौंच के बीजों की गिरी और जड़ का चूर्ण बराबर मात्रा में मिलाकर 1-1 चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार कुछ सप्ताह तक सेवन करने से बांझपन दूर होता है।
7. यदि कोई रोगी तेज बुखार से ग्रसित है तो कौंच की जड़ का काढ़ा 1-1 कप की मात्रा में दिन में 2 से 3 बार पिलाएं। इससे बुखार में तुरंत आराम मिलता है।
8. कौंच के बीजों की गिरी और तालमखाने के बीज 25-25 ग्राम की मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में 50 ग्राम मिश्री मिलाकर प्रतिदिन 2 चम्मच की मात्रा में दूध के साथ खाने से नपुंसकता दूर होती है।
9. कौंच की जड़ को पीसकर लेप बनाकर कलाई पर बांधने से जलोदर रोग (पेट में पानी भरने की समस्या) ठीक होता है और पेट का दर्द में भी आराम मिरता है।
10. कौंच के बीजों को पानी में पीसकर दिन में 2 -3 बार गिल्टी पर लेप करने से गिल्टी(ट्यूमर) ठीक हो जाती है।
11. कौंच के बीजों की खीर बनाकर सेवन करने से वात रोग में आराम मिलता है।
13. कौंच की सूखी फली को बेहोश व्यक्ति के शरीर पर रगड़ने से बेहोशी दूर होती है। बेहोशी दूर होने पर गाय के घी से रोगी के शरीर की मालिश करें। इससे कौंच का जहर उतर जाता है।
14. कौंच के बीजों को पानी में पीसकर दिन में 2 -3 बार लेप करने से उपदंश रोग ठीक होता है।
15. शहद व अदरक का रस 1-1 चम्मच और कौंच के बीजों की गिरी आधी चम्मच। इन सभी को एक साथ पीसकर चूर्ण बना लें और इसका सेवन सुबह-शाम करें। इससे दमा रोग में आराम मिलता है।
16. हर व्यक्ति अपने शरीर को मजबूत और ताकतवर बनाना चाहता है तो इसके लिए कौंच के बीज और गोखरू के चूर्ण को मिश्री के साथ मिलाकर दूध के साथ पीने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है। इसके लिए कौंच के बीज और जड़ को समान मात्रा में लेकर इनको पीसकर चूर्ण बना लें और इसमें बराबर मात्रा में चीनी मिलाकर एक बोतल में भरकर रख लें। यह चूर्ण 10 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन दूध के साथ सेवन करने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है।

इसे भी पढ़ें- डायबिटीज क्या हैं, लक्षण और घरेलू उपाय

इसके साथ ही कौंच के अन्य लाभ भी है –

1.कौंच का सेवन करने वाले व्यक्ति तनाव और चिंता से दूर रहता है साथ ही उसकी ग्रंथियों को मजबूती मिलती है। कौंच तंत्रिकातंत्र के लिए एक बहुत ही अच्छा पोषक तत्व के रूप में कार्य करता है।
2. कौंच कौलेस्ट्राल व ब्लडशुगर के स्तर को सही करने में बहुत ही लाभकारी है.
3-कौंच बीज चूर्ण के इस्तेमाल से स्वास्थ्य सुधरता है और इम्युनिटी पॉवर को बढाकर बीमारियों से बचाता है।

इन्हे भी पढ़ें-

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here