उदयभान सिंह राठौड़ कौन थे और क्यों बने थे मुगलों के कमांडर

0
10
Udaybhan Singh Rathod Biography

उदयभान सिंह राठौड़ की जीवनी । Udaybhan Singh Rathod Biography in hindi, History, Tanaji Movie, Saif Ali Khan Role, Death, Wife and more

मुगल साम्राज्य का एक छत्र राज था। लेकिन हिंदू राजपूत राजा अपनी धरती पर किसी विदेशी अधिकार को कभी स्वीकार नहीं किए। इसलिए शिवाजी, राणासांगा, महाराणा प्रताप सिंह जैसे राजपूतों ने अपनी धरती मां की रक्षा के लिए सदैव मुगलों से लड़ते रहे हैं। लेकिन इतिहास में कई ऐसे हिंदू राजा हुए जो मुगलों की तरफ से लड़कर कूरता की मिसाल कायम कर दी। इनमें से हैं, राजपूत उदयभान ​सिंह राठोड़। इनकी जीवनी पर फिल्म बनी है। सैफ अली खान ने  उदयभान सिंह राठोड़ का रोल ताना जी (Tanaji) movie) फिल्म में किया था और अजय देवगन ने मराठा योद्धा तानीजी का किरदार निभाया है। उदयभान सिंह राठोड़ ने मुगलों की तरफ से राजपूत राजाओं से युद्ध किया। अब आप सोच रहे कि ये फिल्म और उदयभान सिंह राठोड़ कौन है? आइए जाने इनकी जीवनी के बारे में। Udaybhan Singh Biography in Hindi .

Udaybhan Singh Rathod Biography
  • नाम:      उदयभान सिंह राठौड़
  • जन्म:    1635
  • मृत्यु:     फरवरी 1670
  • उम्र :      35 साल
  • धर्म:       हिन्दू
  • जाति:    राजपूत
  • काम:     सैनिक

इन्हे भी पढ़ें-

उदयभान सिंह राठौड़ की जीवनीUdaybhan Singh Biography in Hindi.

कौन हैं उदयभान सिंह राठौड़?

उदयभान सिंह राठौड़ का जन्म सन् 1635 ई में हुआ था। राजपूत योद्धा थे। तलवारबाजी में उनके सामने कोई टिक नहीं पाता था। उदयभान कोंडाना किले के रक्षक पद पर तैनात थे। उस समय के मुगलों के अधीन राजा जय सिंह भान ने उन्हें रक्षक के पद पर तैनात किया था। आपको बात दें कि मुगल साम्राज्य में राजा जय सिंह भान औरंगजेब के कार्यकाल में मुगल सेना के सेनापति थे। अकबर के समय से ही विस्तारनीति के तहत मुगलों ने कई हिंदू राजाओं को अपने अधीन समझौता करके या युद्ध में जीतकर किया था। लेकिन सच्चाई यह भी है कि मुगलों से कई राजपूतों ने युद्ध भी किया और उनकी सत्ता को कभी स्वीकार भी नहीं किया।

उदयभान सिंह राठौड़ का शानदार युद्ध

राजपूत जाति के उदयभान सिंह अपने इरादे के पक्के थे। वे मुगलों के अधीन किला के सुरक्षा लिए रक्षक पद पर तैनात थे। बाद में औरंगजेब ने इनके साहस और शूरवीरता से प्रसन्न होकर इन्हें सूबेदार को पद दे दिया लेकिन ऐसा कैसे हुआ?

 औरंगजेब की सत्ता को स्वीकार न करने वाले और अपने माटी से प्रेम करने वाले मराठा छत्रपति शिवाजी महाराज ने मुगलों के खिलाफ युद्ध शुरू कर दिया था। औरंगजेब मराठे राजाओं से परेशान थे। छत्रपति महाराज शिवाजी ने मुगालों के किलों पर चढ़ाई शुरू कर दिया। क्योंकि उस समय सैनिक नजरिए से किले को जीतना जरूरी था तभी वे राज्य को जीत सकते थे। छापामारी युद्ध प्रणाली में मराठा और राजपूत माहिर थे। इधर औरंगजेब ने अपने किलों की सुरक्षा का दायित्व योग्य सैनिकों को देना शुरू कर दिया। साहसी और वीर उदयभान सिंह राठौड़ को कोंढाणा  Kondhana जैसे बड़े किले की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई। यह किला बहुत खास था।  इस किले को जीतकर मराठा साम्राज्य अपना खोया हुआ सम्मान हासिल करना चाहते थे। ​छत्रपति जी शिवाजी महाराज की मां जीजाबाई की इच्छा थी कि कोंढाणा किले पर हमला करें। लेकिन ये काम बहुत आसान नहीं था। यह पर सुरक्षा में तैनात उदयभान सिंह राठोड़ था।

कोंढाणा  Kondhana का किला कहां है

कोंढाणा  Kondhana का किला पुणे शहर से 20 किमी दूर हवले तहसील में है। इसका क्षेत्रफल 70,000 वर्ग किलोमीटर है। किला इतना बड़ा है कि इस का एक दरवाजा पुणे की ओर है तो दूसरा दरवाजा कल्याण की ओर खुलता है।

वीर तानाजी मालुसरे और उदयभान सिंह राठौड़ के बीच युद्ध

वीर तानाजी मालुसरे मराठा सेना के लीडर थे। उन्हें शिवाजी ने कोंढाणा  Kondhana पर हमला करने के लिए भेजा। सेना के साथ हमला के लिए पहुंचे। वहां पर पहुंचे तो उनका सामना किले की रक्षा में तैनात वहां पर उदयभान सिंह राठौड़ से हुआ। तानाजी ने बहादुरी से युद्ध किया। उदयभान से घमासान युद्ध के दौरान तानाजी घायल हो गए। अंत में किला तानाजी ने जीत लिया। लेकिन तानाजी गंभीर रूप से घायल होने के कारण वीरगति शहीद को प्राप्त होगए। पर उदयभान बच गया।

क्यो शमिल हो गया मुगलों की सेना में

सवाल उठता है कि वीर उदयभान सिंह राठोड़ एक राजपूत होते हुए, वह क्यों मुगलों की तरफ से युद्ध कियाये भी कहा जाता है कि एक समय पहले जगत सिंह राजा की राजकुमारी कमला देवी को तलावाबाजी सिखाते थे। इस बीच उदयभान सिंह राठोड़ को राजकुमारी से प्रेम हो गया लेकिन राजकुमारी ने उनके प्रेम को ठुकरा दिया है। कहा कि हमरा तुम्हार कोई मेल नहीं। उदयभान सिंह राठोड़ ने बातया कि वे भी राजपूत हैं, उनके पिता महंत थे। लेकिन राजकुमारी ने कहा कि पर मां तो नहीं। राजकुमारी की ये बात उनके दिल में लग गई। वे अपनी मां के पास आए और सौगंध खाई की वे मुगलों के छत्रछाया में रहेंगे और अपना बदला लेंगे।  बाद में उदयभान सिंह राठोड़ युद्ध में राजकुमारी के पति राजकुमार को मारकर उसके राज्य हासिल कर लेता है। राजकुमारी को बंदी बना लेता है।

Advertisement

ताना जीफिल्म tana ji movie में सैफ अली खान ने निभाया उदयभान का किरदार

सैफ अली खान एक बेमिसाल एक्टर है। सन 2020 ताना जी फिल्म  (Tanaji Movie) में निगेटिव रोल निभाया। जबकि माराठा सेना की तरफ से तानाजी का रोल अजय देवगन ने इस फिल्म में निभाया है। दोनों की कलाकारी को दर्शकों खूब सरहाया। उनका ये एतिहासिक रोल लोगों ने पसंद भी किया। युद्ध की वास्तविक स्थितियों को बहुत अच्छे तरीके से इसमें दिखाया गया है।  ये फिल्म अपने कंटेंट को लेकर विवादित भी रही है।

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here