Best Dard Shayari, दर्द भरी शायरी, Pyar Ka Dard Status..

0
426
Shayari in hindi

कभी तुम हम पर जान दिया करते थे,
हम जो करते थे वो मान लिया करते थे।
आज हमारे पास से अन्जान होकर गुज़र गये,
वो जो हमें दूर से पहचान लिया करते थे।।


Kabhi tum Humpar jaan Diya karte The,
Hum Jo Kahte The Maan Liya Karte The,
Aaj Humare Pass Se Anjan Hokar Gujar Gaye,
Wo Jo Hume Door Se pahchan Liya Karte The.


कभी याद मेरी आई तो तुमको वो पल रूला देगा,
तुम्हारे दिल की धड़कनों को भी जगा देगा।
हमेशा याद रखेंगे हम तुम्हारी बेवफाई को,
मेरे जैसा महबूब तुम को फिर भी दुआ देगा।।


Kabhi Yaad Meri Aayi tou tumko vo pal rula dega,
Tumhare Dil ki Dhadkano Ko Bhi Jaga Dega,
Humesha Yaad Rakhenge Hum Tumhari Bewafai ko,
Mere Jaisa Mehboob tum ko Phir Bhi Dua Dega.


सारी उम्र आंखों में एक सपना याद रहा,
सदियां बीत गयीं हमारी, वो लम्हा याद रहा।
जाने क्या बात थी तुम जैसे दिलदार में,
सारी महफिल भूल गये तेरा तराना याद रहा।।


Saari Umer Aankhon mein ek sapna yaad raha,
Sadiyaan Beet Gayi humari, vo lamha yaad raha,
Jaane kya baat thi tum jeise dildar mein,
Saari mahfil Bhool Gaye Tera Tarana Yaad Raha.


टूटे पत्ते का दर्द उसकी साख से पूछो,
धरती की प्यास बरसात से पूछो।
हर पल याद करते हैं हम तुम्हें कितना,
ये हमसे नहीं अपने आप से पूछो।।


Toote pattey ka dard sakh se poocho,
Dharti ki pyaas Barsaat se poocho,
Har Pal yaad karte hai hum tumhe kitna,
Ye humse Nahi Apne Aap se Poocho.


अगर खुश हो तुम देखकर आंसू मेरी आंखों में,
तुम्हारी कसम हम मुस्कुराना छोड़ देंगे।
तड़पते रहेंगे हम तुम्हे हमेशा देखने को,
पर तुम्हारी तरफ नज़रे उठाना छोड़ देंगे।।


Agar Khush Ho Tum Dekhkar Aansu meri Aankhon mein,
Tumhari Kasam Hum Muskurana Chhod Denge,
Tadpte Rahenge Hum Tumhein Hamesh Dekhne ko,
Par Tumhaari Taraf Nazrein Uthana Chhod Denge,


बिनी दर्द के आसूं बहाये नहीं जाते,
बिनी प्यार के रिश्ते निभाये नहीं जाते।
मेरे महबूब याद रखना ज़िदगी में,
बिना दिल दिये महबूब बनाये नहीं जाते।।


महफिल में हंसना तो हमारा मिज़ाज बन गया,
तन्हाई में रोना हमारा एक राज़ बन गया।
दिल के दर्द को चेहरे से ज़ाहिर न होने दिया,
यही ज़िन्दगी जाने का अंदाज बन गया।।


वक्त आता है और चला जाता है,
इसका इन्तज़ार और ऐतवार मत करना।
जो जुदा होकर भी बार-बार याद आये,
ऐसे महबूब का एतबार मत करना।।


दिल चालता है तुमसे मुलाक़ात रोज़ हो,
ज़िदगी के हर लम्हों में तुम्हारा साथ हो।
हो तुमसे कुछ बातें इतने करीब से,
जो उम्र भर न भूलें वह बात रोज़ हो।।


मजबूरी हमारी तुम जान ना सके,
गुज़ारिश हमारी तुम मान ना सके।
कहते है हमें मरने के बाद भी याद रखेंगे,
जीते जी जो हमें पहचान ना सके।।

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here