सीआईडी का फुल फॉर्म क्या है, इसके कार्य क्या है- CID Full Form in Hindi

0
47
सीआईडी का फुल फॉर्म

सीआईडी क्या है, सीआईडी के मुख्य कार्य क्या क्या है, सीआईडी का फुल फॉर्म क्या है, CID की स्थापना कब की गई थी और किसके द्वारा की गई थी, CID कैसे कार्य करती है, CID में job पाने के लिए क्या क्या योग्यता होनी अनिवार्य है, CID में Job पाने के लिए परीक्षा कौन-कौन सी होती है, और CID में कार्यकारी कोन कौन से है।

CID क्या है और CID के मुख्य कार्य क्या क्या है?

CID भारत की सुरक्षा एजेंसियों में एक “खुफिया सुरक्षा एजेंसी” है यह भारत में स्थापित पुलिस विभाग की तरह ही होती है बस इस विभाग को कुछ खास अधिकार प्राप्त होते हैं इन अधिकारों की मदद से वह अपना काम बिना किसी की रोक टोक के कर सकते हैं यह विभाग अपना काम खुफिया तरीको से करती है

सीआईडी का फुल फॉर्म

CID उन मामलों की जांच पड़ताल करती है जो मामलें पुलिस की समझ से परे होते हैं हमारा मतलब है कि वो मामलें जो बहुत ही संवेदनशील होते हैं जैसे कि चोरी, रेप कांड, बैंक डकैती, और हत्या कांड जैसे संवेदनशील मामलें CID इन सब मामलों की जांच ख़ुफ़िया तरीको से करती है।

सीआईडी का फुल फॉर्म क्या है? CID Full Form in Hindi

अगर हम बात करे CID के full form की तो CID का पूरा नाम :-

CID:- Crime Investigation Department 
Crime Inverstigation Department का हिंदी में अर्थ “अपराध जांच पड़ताल विभाग” है

CID की स्थापना कब की गई थी और किसके द्वारा की गई थी?

CID यानि कि Crime Inverstigation Department  की स्थापना भारत को आजादी मिलने से 45 साल पहले हमारा मतलब है कि सन 1902 में की गई थी। CID की स्थापना अंग्रजी सरकार  यानि ब्रिटिश सरकार द्वारा की गई थी Cid की स्थापना राज्य स्थर पर की गई थी इस लिए वह अपने राज्य में रह कर राज्य सरकार के लिए काम करती है राज्य सरकार कोई भी महत्वपूर्ण केस CID को सौप सकती है।

CID कैसे कार्य करती है?

CID किस तरह से अपने कार्य करती है उसके बारे जानकारी निम्नलिखत अनुसार है

1). CID के काम करने का क्षेत्र अपने राज्य तक ही सीमित होता है वह अपने राज्य के बाहर काम नहीं करती अगर करना भी चाहती है तो उन्हे कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

2). CID के पास जो भी महत्वपूर्ण केस की जांच करने के लिए आते हैं वह उन्हें राज्य सरकार या फिर हाईकोर्ट ही CID को सौप सकती है।

3). CID चोरी, रेप, बैंक डकैती, और हत्या कांड जैसे संवेदनशील मामलें बिना किसी भी रोक टोक के बिना किसी परेशानी के सुलझा सकती है।

Advertisement

4). CID का मुख्य काम संवेदनशील मामलें को सुलझा कर अपराधी को पकड़ कर कोर्ट में जज साहिब के सामने पेश करना होता है।

5). CID अपना कोई भी काम खुफिया तरीको से करती है और केस को ख़त्म होने पर अपराधी और सबूतों को कोर्ट में पेश करती है।

CID में Job पाने के लिए क्या क्या योग्यता होनी अनिवार्य है?

CID में Job पाने के लिए आपकी शिक्षक योग्यता और शरीरक योग्यता को देखा जाता है जो कुछ इस प्रकार से होनी चाहिए।

1). शिक्षक योग्यता

अगर आप CID Officer बनना चाहते हैं तो आपको सबसे जरूरी यही है कि आप का 12th पास होना तो बहुत ही जरूरी है, आप 12th पास करने के बाद CID में Constabl की जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं, अगर आप उच्च पद के अधिकारी बनना चाहते हैं तो आपको अपनी Graduation पूरी कर लेनी चाहिए, Graduation आप चाहे तो किसी भी Stream में पूरी कर सकते हैं चाहे वह Arts हो या Science आपकी Graduation होनी जरूरी है

2). शरीरक योग्यता

शरीरक योग्यता में अगर आप पुरुष है तो आपकी ऊँचाई 5.2 फिट होनी अनिवार्य है और अगर आप महिला है तो आपकी ऊँचाई 5 फिट होनी अनिवार्य है।
और अगर हम बात करे तो आपकी छाती का size फुलाकर 76 cm तो होनी ही चाहिए।
ऊँचाई और साइज के साथ साथ आपकी नेत्र दृष्टि भी अच्छी होनी चाहिए।

CID में Job पाने के लिए परीक्षा कोनसी कोनसी होती है?

हर साल CID में जॉब पाने के लिए परीक्षा ली जाती हैं और यह परीक्षा UPSC द्वारा ली जाती है यह परीक्षा तीन प्रकार की होती है कुछ इस तरह से :-

1). लिखित परीक्षा
सबसे पहले लिखित परीक्षा ली जाती है दो भागों में होती है
१. टियर-1
इस प्रश्न पत्र में आपको 200 अंको के प्रश्न देखने को मिलते हैं इन प्रश्नों को हल करने के लिए आपको 2 घंटो का समय दिया जाता है
२. टियर-2
इस प्रश्न पत्र में आपको 400 अंको के प्रश्न देखने को मिलते हैं इन प्रश्नों को हल करने के लिए आपको 4 घंटो का समय दिया जाता है
2). शरीरक परीक्षा
लिखित परीक्षा पास करने के बाद आपका शरीरक परीक्षण किया जाता है जिसके लिए आपको किसी एक निर्धारित दिन के निर्धारित समय पर बुलाया जाता है और आपकी ऊँचाई, आपका size, आपकी आँखों की रौशनी और आपकी ताकत का परीक्षण किया जाता है।
3). साक्षत्कार
लिखित परीक्षा और शरीरक परीक्षा में पास होने के बाद आपकी आखरी परीक्षा ली जाती है जिसमे आपका साक्षत्कार यानि कि आपका interview लिया जाता है।
लिखित परीक्षा, शरीरक परीक्षा और साक्षत्कार में पास होने के बाद आप एक CID officer बनने के योग्य हो सकते हैं।

CID में कार्यकारी कोन कोनसे है?

Cid के कार्यकारी या अधिकारी कुछ इस प्रकार से होते हैं :-
1). Additional Director General Of Police (ADGP)
2). Inspector Of Police (IGP)
3). Deputy Inspector General (DIG)
4). Superintendent Of Police (SP)
5). Deputy Superintendent Of Police (DSP)
6). Inspector
7). Superintendent
8). Sub Inspector
9). Constable

Advertisement

तो दोस्तों यह थी CID की पूरी जानकारी हमारे शब्दो में उमीद है कि आपको हमारी यह जानकारी अच्छे से समझ आ गई होगी और आपको कोई भी परिशानी नहीं आई होगी अगर फिर भी आपको कुछ भी समझने में परिशानी आती है तो आप हमें नीचे दिए Comment Box में Comment करके पूछ सकते हैं और अगर आपको हमारा यह article पसंद आया तो किर्प्य इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे और उन लोगो के साथ तो शेयर जरूर करे जो अपने जीवन में CID officer बनना चाहते हैं। धन्यवाद!

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here