मिर्ज़ा ग़ालिब की मशहूर शायरियां, शेर व गज़ल….

0
795

Ghalib ki Shayari in hindi fonts

हम कहाँ के दाना थे किस हुनर में यकता थे
बे-सबब* हुआ ‘ग़ालिब’ दुश्मन आसमाँ अपना

***

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

***

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है

***

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं

***

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

***

Advertisement

पहले आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

***

हम ने माना कि तग़ाफ़ुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक

***

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

***

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

***

पिला दे ओक से साक़ी जो मुझ से नफ़रत है
पियाला गर नहीं देता न दे शराब तो दे

***

Advertisement

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है

***

तुम सलामत रहो हज़ार बरस
हर बरस के हों दिन पचास हज़ार

***

हवस को है नशात-ए-कार क्या क्या
न हो मरना तो जीने का मज़ा क्या

Galib Ki Shayari

क़ासिद के आते आते ख़त इक और लिख रखूँ
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में

***

आए है बे-कसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद

***

दाइम पड़ा हुआ तिरे दर पर नहीं हूँ मैं
ख़ाक ऐसी ज़िंदगी पे कि पत्थर नहीं हूँ मैं

Advertisement

***

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के

***

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

***

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

***

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

***

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Advertisement

***

वो आए घर में हमारे ख़ुदा की क़ुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

***

जब तवक़्क़ो ही उठ गई ‘ग़ालिब’
क्यूँ किसी का गिला करे कोई

***

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

***

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू क्या है

***

यही है आज़माना तो सताना किस को कहते हैं
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तिहाँ क्यूँ हो

Advertisement

***

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत के रात दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए

***

नोट- उम्मीद है कि आपको Best shayari of mirza ghalib in hindi पसंद आयीं होगी, Mirza ghalib shayari in hindi 2 lines को अपने दोस्तों व चाहने वालों को Facebook आदि पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करना नहीं भूलें।

Tag : Mirza Ghalib, Poetry, Sad, New, Best, Latest, Two Line, Hindi, Urdu, Shayari, Sher, Ashaar, Collection, Shyari, नई, नवीनतम, लेटेस्ट, हिंदी, उर्दू, शायरी, शेर, अशआर, संग्रह, 2 line sad shayari , two line shayari in hindi , 2 line shayari in hindi , 2 line urdu poetry

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

1
2
3
साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here