आज कितनी तारीख है । Aaj Kitni Tarikh Hai

0
5
Aaj Kitni Tarikh Hai

आज कितनी तारीख है? । Aaj Kitni Tarikh Hai:– आप यह बात अपने मोबाइल में Google assistant से पूछ सकते हैं तो वह फटाक से  बताती है कि आज  कितनी तारीख है?

जैसे अभी मैंने पूछा गूगल असिस्टेंट से तो उसने बताया कि आज   27 March 2021 है।  यही नहीं दोस्तों अगर आप बोलकर यह भी पूछते हैं की परसों कौन सी तारीख है तो  आपके  mobile में install Google assistant  आसानी से बता देता है। मैंने पूछा कि परसों कौन सी तारीख है?

 तो गूगल असिस्टेंट ने बता दिया कि परसों 29 मार्च है।  यह कोई जादू नहीं बल्कि डिजिटल इंटेलिजेंसी तकनीक का कमाल है। तो दोस्तों अब आपको हर जगह अगर कोई सूचना पानी है तो गूगल सर्च इंजन और गूगल असिस्टेंट आपको  हर इंफॉर्मेशन से अपडेट रखता है। इसके अतिरिक्त मेरे पापा का नाम क्या है इसे जानने के लिए लिंक पर क्लिक करके पढ़ें।

आज कितनी तारीख है किससे पूछें?

अगर यही बात गूगल के सर्च इंजन पर सर्च करते हैं तो पहला परिणाम आज की तारीख और वर्ष बताता हुआ आएगा और स्पीच रिकॉग्नाइज्ड के जरिए एक महिला की आवाज से आपको आपके मोबाइल के माध्यम से बताया जाएगा कि आज ये तारीख है। टाइम कितना हो रहा है? इसके बारे में जानने के लिए लिंक पर क्लिक करके पूरा आर्टिकल पढ़ें।

 ऐसा क्यों मेरा दोस्त नाश्ता कर रहा है और मैं लंच कर रहा हूं और हम दोनों मोबाइल पर एक दूसरे से बात कर रहे हैं?

दोस्तों आप सोच रहे होंगे कि फनी क्वेश्चंस लेकिन मैं आपको बोर कर रहा हूं लेकिन सच्चाई यही है कि मैं समझाना चाहता हूं कि गूगल समय और  डेट बताता है। सच बताएं कि हम भारत में रह रहे हैं और  इस समय अगर दोपहर के  2 बजकर 22 मिनट हो रहा है तो इंग्लैंड में  मेरा दोस्त मुझसे बात कर रहा होगा तो मैं यहां लंच कर रहा हूं और वहां सुबह के 8:52 मेरा दोस्त नाश्ता कर रहा है। म दोनों मोबाइल पर एक ही समय में बात कर रहे हैं लेकिन हमारा समय अलग-अलग है।

ऐसा क्यों? खैरियत में एक प्रश्न और मैं जोड़ देता हूं कि अचानक मैं अपने पिताजी की पुरानी सुई वाली घड़ी पहन  कर 1 घंटे में एरोप्लेन से इंग्लैंड पहुंच जाऊं तो मैं अपनी घड़ी को 3:22 समय बता रहा होगा जो भारत के समय से मिला है तो वहां पर पहुंचते ही मुझे अपनी घड़ी का समय पीछे करना है कि आगे करना है इस सवाल का जवाब भी आप आप बताइए?

तो दोस्तों में बता दूं कि अभी मेरे दोस्त  से मैं फोन पर बात कर रहा था तो उस समय England  में सुबह के 8:52 हुआ था और 1 घंटे में मैं  aeroplane इंग्लैंड पहुंच गया तो वहां का समय 9:52 हो गया और मैं 2:22 में अपने देश भारत से निकला था तो मेरी घड़ी क्योंकि भारत के अनुसार समय बता रही थी तो वहां 3:22 हुआ लेकिन जैसे ही मैं इंग्लैंड पहुंचा तुम हां मुझे अपनी घड़ी की सुई को पीछे ले जाना पड़ा और 9:22 करना पड़ा। दूसरी बात की जब हम पूरब से पश्चिम की ओर जाते हैं तो हमें अपनी घड़ी की सुई पीछे करनी पड़ती है। भारत देश से इंग्लैंड पश्चिम दिशा में है इसलिए मुझे 5:30 घंटे टाइम पीछे करना पड़ा टाइम जोन के अनुसार लेकिन वह 1 घंटे का सफर तय कर चुका हूं इसलिए मुझे 4:30 घंटे ही टाइम पीछे इंग्लैंड में जाकर करना पड़ा है।

 तो इंग्लैंड में   8:52 सुबह के हो रहे हैं। दोस्तों हर जगह का स्थान इस समय होता है क्योंकि हमारी  धरती गोल है और सूरज के चारों ओर चक्कर ही नहीं लगाती बल्कि अपनी धुरी पर घूमती है, जिस कारण से दिन और रात होता है। और हर जगह  दिन रात का समय एक जैसा नहीं होता अलग अलग होता है, इसे स्थानीय समय कहते।

जब आप गूगल से  सवाल पूछते हैं कि आज कितनी तारीख है तो वह आपके मोबाइल से लोकेशन के अनुसार आपके शहर  जिस इंटरनेशनल टाइम जोन Time Zone से जुड़ा होता है, जहां से यह मानक समय बताया जाता है, जैसे भारत में भारतीय मानक समय

Advertisement

भारत (GMT+5:30) का समय क्षेत्र है इसी तरह से सभी देश अपने-अपने टाइम जोन में बटे  हुए हैं।

टाइम जोन के आधार पर तिथि यानी तारीख डेट आदि का पता चलता है। जहां सूरज सबसे पहले निकलता है जैसे पूरब का देश वहां सबसे पहले तारीफ होती है और जैसे-जैसे सूरज की रोशनी पीछे वाले टाइम जोन  क्षेत्र पर पड़ती है उनका दिन  बाद में शुरू होता है। इसलिए जापान को उगते हुए सूरज का देश कहा जाता है क्योंकि धरती पर सबसे पहले जापान  देश को जाना जाता था कि यहां सूरज पहले उठता है। लेकिन  अब नए टाइम जोन के अनुसार

 आपसे प्रश्न करूं कि

सवाल: नए टाइम जोन के अनुसार सूरज सबसे पहले किस देश में निकलता है?

उत्तर: न्यूजीलैंड देश में सूरज सबसे पहले निकलता है।

 दोस्तों अपने देश में सबसे पहले सूरज अरुणाचल प्रदेश से यानी कि नार्थ ईस्ट में निकलता है इसीलिए देखिए अरुणाचल प्रदेश का अर्थ ही अरुण यानी सूरज और आर्यन यानी कि सूरज की किरणों का आंचल फैलाने वाली पहाड़ी जगह कहा जाता है। दोस्तों हमारे देश में जब इंटरनेट नहीं था पूरी दुनिया में तो ज्योतिष विज्ञान ने हर दिन और सूरज की दूरी पृथ्वी का चक्कर लगाना। हर साल की गणना 1 साल में कितने दिन होते हैं। इन सब के बारे में पहले ही से ही पता है। अब इंटरनेट की दुनिया में और कंप्यूटर ने ही इसे सही माना है।

दोस्तों पश्चिम में सूरज डूबता है तो वहीं सूरज सबसे पहले पूरब में निकलता है। दोस्तों जैसे जैसे हम पूरब की ओर चलेंगे हमें अपनी घड़ी की सुई आगे की ओर बढ़ाना होगा वही जैसे-जैसे हम पश्चिम की ओर जाएंगे हमें अपनी घड़ी की सुई पीछे करनी होगी।

 एक छोटा सा सवाल है बुद्धिमान इंसान से पूछा जाता है, दोस्तों आईएएस की परीक्षा में भी इस तरह के सवाल पूछे जाती है, कि अगर हम बहुत तेजी से गति करके पूरब से पश्चिम देश में जाते हैं तो हमें टाइम बढ़ाना पड़ेगा और इसके उलट हम पश्चिम से पूरब की ओर जाते हैं तो हमें टाइम – पड़ेगा। दोस्तों टाइम जोन से ही किसी का भी निर्धारण होता है इसलिए गूगल असिस्टेंट आपको सही समय बता देता है तो आप गूगल असिस्टेंट से भी पूछ सकते हैं कि दिल्ली में कितना समय है? आप पूछ सकते हैं कि इंग्लैंड में समय कितने बजे हैं? आप पूछ सकते हैं कि जापान में कितना समय है। क्या आप अपने मोबाइल के घड़ी सेटिंग पर जाइए और सभी देशों के जोन में समय के बारे में एक नजर में देख सकते हैं। और जैसे ही आप देखे कि 12 घंटे का समय बदल जाता है वैसे ही एक जगह से दूसरे जगह 1 दिन की तिथि भी बदल जाती है।

छोटे बच्चों को टाइम जोन अगर आप समझाना चाहते हैं तो मेरे ऊपर बताए गए उदाहरण से उसे समझाइए बहुत आसानी से समझ में आ जाएगा कक्षा 6,  7, 8 की किताब में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।

 दोस्तों अजब गजब दुनिया की बातों में आगे भी हम किसी और टॉपिक पर चर्चा करेंगे अगर आपको यह सीरीज पसंद आ रही है तो कमेंट करके जरूर बताएं और आप और कौन सी जानकारी जानना चाहते मेरे अंदाज में तो हमें जरूर बताएं।

Advertisement
Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here