बाल दिवस पर कविता | Bal Diwas Par Kavita | Poem on Children’s day in Hindi

0
638
poem-on-children's-day-in-hindi

Bal Diwas Par Kavita:  बाल दिवस हर साल भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्म दिवस पर ही मनाते हैं। यहां हम Poem on Children’s Day in Hindi आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं इन बाल दिवस कविताओं को बहुत ही प्रसिद्ध कवियों द्वारा लिखी गयी हैं।

प्रत्येक वर्ष 14 नबम्बर को बाल दिवस मनाया जाता है इसे हम अंग्रेजी में Children’s Day हैं इस दिन स्कूलों में प्रतियोगिताएं आदि का आयोजन किया जाता हैं जिसमें निबंध लेखन, कविता आदि की प्रतियोगिताएं होती हैं।

बाल दिवस पर कविता | Bal Diwas Par Kavita | Poem on Children’s day in Hindi

poem-on-children's-day-in-hindi

1. Bal Diwas Ki Kavita in Hindi – बाल दिवस है आज

बाल-दिवस है आज साथियो, आओ खेलें खेल ।
जगह-जगह पर मची हुई खुशियों की रेलमपेल ।

बरस-गांठ चाचा नेहरू की फिर आई है आज,
उन जैसे नेता पर सारे भारत को है नाज ।
वह दिल से भोले थे इतने, जितने हम नादान,
बूढ़े होने पर भी मन से वे थे सदा जवान ।
हम उनसे सीखे मुसकाना, सारे संकट झेल ।

हम सब मिलकर क्यों न रचाए ऐमा सुख संसार
भाई-भाई जहां सभी हों, रहे छलकता प्यार ।
नही घृणा हो किसी हृदय में, नहीं द्वेष का वास,
आँखों में आँसू न कहीं हों, हो अधरों पर हास ।
झगडे नही परस्पर कोई, हो आपस में मेल ।

पडे जरूरत अगर, पहन ले हम वीरों का वेश,
प्राणों से भी बढ़कर प्यारा हमको रहे स्वदेश ।
मातृभूमि की आजादी हित हो जाएं बलिदान,
मिट्टी मे मिलकर भी माँ की रक्खें ऊंची शान ।
दुश्मन के दिल को दहला दें, डाल नाक-नकेल ।
बाल दिवस है आज साथियो, आओ खेलें खेल ।

– मनोहर प्रभाकर

इसे पढ़ें- बाल दिवस 2019: बाल दिवस पर भाषण, निबंध, महत्व, इतिहास


2. Bal Diwas Par Kavita-  फूलों के जैसे..

फूलों के जैसे महकते रहो,
पंछी के जैसे चहकते रहों,

Advertisement

सूरज की भांति चमकते रहों,
तितली के जैसे मचलते रहों,

माता-पिता का आदर करो,
सुंदर भावों को मन में भरो,

ये है हमारी शुभ कामना,
ये बचपन हमेशा हँसता रहे
मुस्कुराता रहे…

इसे भी पढ़ेंआईपीएस कैसे बनें जाने विस्तृत जानकारी


3. Children Day Song in Hindi । बाल दिवस पर कविता एवं गीत

बाल दिवस की शुभकामनाएं.

बचपन है ऐसा खजाना
आता है ना दोबारा
मुस्किल है इसको भूल पाना,
वोखेलना कूदना और खाना
मौज मस्ती में बखलाना

वो माँ की ममता और वो पापा का दुलार
भुलाये ना भूले वह सावन की फुवार,
मुस्किल है इन सभी को भूलना

वह कागज की नाव बनाना
वो बारिश में खुद को भीगना
वो झूले झुलना और और खुद ही मुस्कुराना …..

वो यारो की यारी में सब भूल जाना
और डंडे से गिल्ली को मरना
वो अपने होमवर्क से जी चुराना
और teacher के पूछने पर तरह तरह के बहाने बनाना
बहुत मुस्किल है इनको भूलना

वो exam में रट्टा लगाना
उसके बाद result के डर से बहुत  घबराना
वो दोस्तों के साथ साइकिल चलाना
वो छोटी छोटी बातो पर रूठ जाना
बहुत मुस्किल है इनको भुलाना…

Advertisement

वो माँ का प्यार से मनाना
वो पापा के साथ घुमने के लिए जाना
और जाकर पिज्जा और बर्गेर खाना
याद आता है वह सब जबान
बचपन है ऐसा खजाना
मुस्किल है इसको भूलना

इसे भी पढ़ें- बाल दिवस की शुभकामनाएं | Happy Children’s Day Quotes in Hindi 2019


4. Nehru Children’s Day Poem in Hindi । चाचा नेहरू पर बाल दिवस कविता

चाचा नेहरु का बच्चो से है बहुत पुराना नाता
जन्मदिन चाचा नेहरु का बाल दिवस कहलाता

चाचा नेहरु ने देखे थे नवभारत के सपने
उस सपने को पूरा कर सकते है उनके अपने बच्चे

बाल दिवस के दिन हम सभी बच्चे मिलकर गीत ख़ुशी के गायेगें
चाचा नेहरु के चरणों में फूल मालाये चढ़ायेगें!

शालाओं में भी होते है नये नये आयोजन
जिसको देख कर आनंदित होते है हम बच्चो के तन मन

बाल दिवस के इस पवन पर्व पर एक शपथ ये खाओ
ऊँच नीच का भेद भूलकर सबको गले लगाओ!

5. Children’s Day poem in English

Boats sail on the rivers,
And ships sail on the seas;
But clouds that sail across the sky
Are prettier than these.
There are bridges on the rivers,
As pretty as you please;
But the bow that bridges heaven,
And overtops the trees,
And builds a road from earth to sky,
Is prettier far than these.

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here