नेताजी सुभाष चंद्र बोस का व्यक्तित्व और कृतित्व – जीवन परिचय

0
754
Subhas Chandra Biography in hindi

आज हम चर्चा करेंगे ऐसे देशभक्त की जो हमारे देश के लिए अपनी जान न्योछावर कर के और इतना कुछ किया इन्होंने हमारे देश के लिए कि इनके बारे में कुछ कह पाना हमारे बस से बाहर है उनके कुछ कृत हमारे पास है उसे हम बताने जा रहे हैं

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन परिचय

नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्वतंत्रता अभियान के एक महान क्रांतिकारियों में इनका नाम लिया जाता है, उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय सेना का निर्माण किया था जो विशेषता आजाद हिंद फौज के नाम से प्रसिद्ध थी सुभाष चंद्र बोस स्वामी विवेकानंद को बहुत मानते थे सुभाष चंद्र बोस का पूरा नाम सुभाष चंद्र जानकीनाथ बोस था उनका जन्म 23 जनवरी 1897 को ओड़िशा के कटक शहर में हिन्दू कायस्थ परिवार में हुआ था।

उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माँ का नाम प्रभावती था।उनके पिता ने अंगरेजों के दमनचक्र के विरोध में ‘रायबहादुर’ की उपाधि लौटा दी। इससे सुभाष के मन में अंगरेजों के प्रति कटुता ने घर कर लिया। अब सुभाष अंगरेजों को भारत से खदेड़ने व भारत को स्वतंत्र कराने का आत्मसंकल्प ले, चल पड़े राष्ट्रकर्म की राह पर।

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस स्वाभाविक रूप से लेखन के प्रति भी उत्सुक रहे हैं। अपनी अपूर्ण आत्मकथा एक भारतीय यात्री (ऐन इंडियन पिलग्रिम) के अतिरिक्त उन्होंने दो खंडों में एक पूरी पुस्तक भी लिखी भारत का संघर्ष (द इंडियन स्ट्रगल), जिसका लंदन से ही प्रथम प्रकाशन हुआ था।

इन्हे भी पढ़ेंSubhash chandra bose quotes in hindi सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल विचार

आईसीएस की परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद सुभाष ने आईसीएस से इस्तीफा दिया। इस बात पर उनके पिता ने उनका मनोबल बढ़ाते हुए कहा- ‘जब तुमने देशसेवा का व्रत ले ही लिया है, तो कभी इस पथ से विचलित मत होना।’ दिसंबर 1927 में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव के बाद 1938 में उन्हें कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया। उन्होंने कहा था – मेरी यह कामना है कि महात्मा गांधी के नेतृत्व में ही हमें स्वाधीनता की लड़ाई लड़ना है। हमारी लड़ाई केवल ब्रिटिश साम्राज्यवाद से नहीं, विश्व साम्राज्यवाद से है। धीरे-धीरे कांग्रेस से सुभाष का मोह भंग होने लगा।

16 मार्च 1939 को सुभाष ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। सुभाष ने आजादी के आंदोलन को एक नई राह देते हुए युवाओं को संगठित करने का प्रयास पूरी निष्ठा से शुरू कर दिया। इसकी शुरुआत 4 जुलाई 1943 को सिंगापुर में ‘भारतीय स्वाधीनता सम्मेलन’ के साथ हुई। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि जब नेता जी ने जापान और जर्मनी से मदद लेने की कोशिश की थी तो ब्रिटिश सरकार ने अपने गुप्तचरों को 1941 में उन्हें ख़त्म करने का आदेश दिया था।

नेता जी ने 5 जुलाई 1943 को सिंगापुर के टाउन हाल के सामने ‘सुप्रीम कमाण्डर’ के रूप में सेना को सम्बोधित करते हुए “दिल्ली चलो!” का नारा दिया और जापानी सेना के साथ मिलकर ब्रिटिश व कामनवेल्थ सेना से बर्मा सहित इम्फाल और कोहिमा में एक साथ जमकर मोर्चा लिया।

5 जुलाई 1943 को ‘आजाद हिन्द फौज’ का विधिवत गठन हुआ। 21 अक्टूबर 1943 को एशिया के विभिन्न देशों में रहने वाले भारतीयों का सम्मेलन कर उसमें अस्थायी स्वतंत्र भारत सरकार की स्थापना कर नेताजी ने आजादी प्राप्त करने के संकल्प को साकार किया।

इसे भी पढ़ें- नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का जीवन परिचय

सुभाष चंद्र बोस भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी नेता थे जिनकी निडर देशभक्ति ने उन्हें देश का हिंदू बनाया द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने उन्होंने जापान के सहयोग से आजाद हिंद फौज का गठन किया था “तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा” सुभाष चंद्र बोस का यह प्रसिद्ध नारा था।

उन्होंने अपनी स्वतंत्रता अभियान में बहुत से प्रेरणादायक भाषण दिए और भारत के लोगों की आजादी के लिए संघर्ष करने की प्रेरणा दी बाद में सम्मानीय नेताजी ने पहले जर्मनी की सहायता लेकर जर्मनी में ही विशेष सैनिक कार्यालय की स्थापना वर्लीन में 1942 में कि जिसका 1990 में भी उपयोग किया गया था जहां उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता अभियान की बात को संभाली और भारत की आजादी के लिए लोगों को एकजुट करने लगे और एकता के सूत्र में बांधने लगे बोस अच्छी तरह से अपनी सेना का नेतृत्व कर रहे थे उनमें काफी कृतकारी ताकत समाई थी उन्होंने प्रसिद्ध भारतीय नारी जय हिंद की घोषणा की और अपनी आर्मी का नारा बनाया उनके नेतृत्व में निर्मित इंडियन नेशनल आर्मी एकता और समाज सेवा भावना से बनी थी।

इसे भी पढ़ेंमहान लोगों के सर्वश्रेष्ठ सुविचारों का विशाल संग्रह…

उनकी सेवा में भेदभाव और धर्म भेद की जरा भी भावना नहीं थी इसे देखते हुए जापान में उन्हें अकुशल सैनिक बताया और इसी वजह से ही वो अपने आर्मी को ज्यादा समय तक नहीं टिका पाए। रंगून के जुगनी हाल में सुभाष चंद्र बोस द्वारा दिया गया भाषण इतिहास के पन्नों में अंकित हो गया जिसमें उन्होंने कहा था कि “स्वतंत्रता बलिदान चाहती है अपनी आजादी के लिए बहुत त्याग किया है किंतु अभी प्राणों की आहुति देना शेष है” ये आजाद की वचन थे और उन्होंने आजादी को आज अपने शीश फूल चढ़ा देने वाले ऐसे नौजवानों की आवश्यकता है जो अपना सर काट के स्वाधीनता देवी को भेंट चढ़ा सके उन्होंने आई एन इ को दिल्ली चलो का नारा भी दिया सुभाष चंद्र बोस भारतीयता की पहचान ही बन गए और भारतीय युवक आज भी उनसे प्रेरणा ग्रहण करती है ,

वे सुभाष चंद्र बोस भारत के अमूल्य ही थे जो जय हिंद का नारा और अभिवादन देकर चले गए उन्हीं की देन है सुभाष चंद्र बोस के कुछ वाक्य हमारे आज भी रोंगटे खड़े करते हैं ।अपने सार्वजनिक जीवन में सुभाष को कुल 11 बार कारावास हुआ।

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की मृत्यु

भारत की स्वतंत्रता के लिए आज़ाद हिंद फ़ौज का नेतृत्व करने वाले सुभाष चंद्र बोस की मौत एक रहस्य बनी हुई है 18 अगस्त 1945 को ताइपे में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु विमान दुर्घटना से हो गई थी।लेकिन क्या उनकी सच में मृत्यु हुई थी, ये गुत्थी सुलझ नहीं सकी। 23 जनवरी को पूरे देश में सुभाष चंद्र बोस की जयंती बनाई जाती है।

16 जनवरी 2014 (गुरुवार) को कलकत्ता हाई कोर्ट ने नेताजी के लापता होने के रहस्य से जुड़े खुफिया दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की माँग वाली जनहित याचिका पर सुनवाई के लिये स्पेशल बेंच के गठन का आदेश दिया।

आजाद हिंद सरकार के 75 साल पूर्ण होने पर इतिहास मे पहली बार साल 2018 मे नरेंद्र मोदी ने किसी प्रधानमंत्री के रूप में 15 अगस्त के अलावा लाल किले पर तिरंगा फहराया। 11 देशो कि सरकार ने इस सरकार को मान्यता दी थी।

इसे भी पढ़ें- भारत के प्रमुख व्रत, पर्व और त्यौहारों का सम्पूर्ण विवरण

साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here