Dilip Kumar Biography in hindi – ट्रेजडी किंग दिलीप कुमार की जीवनी

0
137
Dilip Kumar Biography in hindi

दिलीप कुमार ( Dilip Kumar ) जिन्हें भारतीय सिनेमा में ट्रेजडी किंग के नाम से भी जाना जाता है. दिलीप कुमार को अपने दौर का बेहेतरीन अभिनेता माना जाता है, दुःखद अभिनय में अपने मार्मिक अभिनय के दम पर सबके दिल को छू लेने के कारण उन्हे ट्रेजडी किंग कहा जाता है. दिलीप को हिंदी फिल्मों में शानदार अभिनय करने के लिए फिल्मों का सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार व पद्म भूषण, पद्म विभूषण एवं पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘निशान-ए-इम्तियाज’ से सम्मानित किया जा चुका है. आज हम आपके साथ दिलीप कुमार का जीवन परिचय Dilip Kumar Biography in Hindi शेयर कर रहे हैं.

दिलीप कुमार का जीवन परिचय Dilip Kumar Biography in Hindi

दिलीप कुमार की जिंदगी के बारे में ( Dilip Kumar Biography in Hindi ) के बारे में नीचे विस्तृत जानकारी दी गयी हैं, उम्मीद है आपको पसंद आयेगी.

नाम Name दिलीप कुमार
असली नाम Real Name मुहम्मद युसुफ खान
जन्म Birth 11 दिसम्बर 1922
जन्म स्थान Birth Place पेशावर उत्तर-पश्चिम प्रोविंस, ब्रिटिश इंडिया
नागरिकता भारतीय
वर्तमान निवास मुंबई
धर्म इस्लाम

दिलीप कुमार की Eary Life & Education

दिलीप कुमार का जन्म ( Dilip Kumar Birth ) 11 दिसम्बर, 1922 को वर्तमान पाकिस्तान के पेशावर में लाला ग़ुलाम सरवर के यहां हुआ था। इस हिसाब से वर्तमान में दिलीप कुमार की उम्र ( Dipil Kumar Age ) 96 वर्ष है. दिलीप कुमार के बचपन का नाम “ मोहम्मद युसूफ़ खान” था. युसूफ खान जन्म के समय बहुत गरीब परिवार थे उनके पिता फल बेचकर परिवार का ख़र्च चलाते थे. इसके बाद जब भारत और पाकिस्तान का विभाजन हुआ तो उनके पिता मुंबई में आकर बस गये थे. दिलीप कुमार का बचपन बहुत ही गरीबी में गुजरा उनके पिता के व्यापार में घाटा होने के कारण वह पुणे की एक कैंटीन में काम करके अपने परिवार का सहारा बन गये थे. किस्मत की बात की युसूफ खान को कैंटीन में काम करने ने उनकी किस्मत बदल दी. कैंटीन में ही देविका रानी की नज़र उन पर पड़ी और उन्होंने युसूफ खान को अभिनेता बना दिया. देविका रानी ने ही ‘युसूफ खान’ की जगह उनका नाम ‘दिलीप कुमार ’ रखा था. दिलीप कुमार अपने शानदार अभिनय की बदौलत केवल 25 वर्ष की उम्र में ही देश के नंबर वन बन गये थे.

जहां तक दिलीप कुमार की शिक्षा की बात की जाये तो इसके बारे में जानकारी हांसिल नहीं हो पायी हो. हां इतना जरूर है कि दिलीप जी ने अपनी स्कूल की पढ़ाई नासिक के पास के किसी स्कूल से की थी, इसके बाद इनका परिवार बाम्बे आकर बस गया था.

दिलीप कुमार जी की शादीशुदा जिंदगी- Dilip Kumar Married Life

दिलीप कुमार की Married life की बात की जाये तो उन्होंने 1966 में अपने से 22 साल छोटी Bollywood की बहुत ही सुन्दर अदाकार सायरा बानो जी से निकाह किया था.  बीच- बीच में दिलीप कुमार और शायरी बानो ( dilip kumar and saira banu ) की शादी के बीच में इतने अंतर होने को लेकर चर्चायें भी होती रहती हैं.

हालांकि दिलीप कुमार ने बच्चे  की चाह में दूसरी शादी 1980 में आसमा रहमान से की थी लेकिन यह निकाह ज्यादा दिन चल नहीं पाया और केवल 2 साल में ही वह अलग हो गये. दिलीप कुमार के बच्चे (dilip kumar children) नहीं है.

दिलीप कुमार का केरियर – Dilip Kumar Career

दिलीप कुमार के केरियर के बारे में बात की जाये तो उन्होंने सन् 1944 में फिल्म ज्वार भआटा जिसे बॉम्बे टॉकीज ने प्रोड्यूस किया था. हांलाकि यह फिल्म सफल नहीं रही. उनकी पहली हिट फिल्म “जुगनू” थी जो 1947 में आयी थी, इस फिल्म ने दिलीप को हिट फिल्मों के स्टार की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया.

इसके बाद दिलीप कुमार के पास फिल्मों की लाइन लग गई, उन्होंने अपने केरियर में 60 से भी अधिक फिल्मों में काम किया, जिसमें राजकपूर व नर्गिस के साथ 1949 में फिल्म ‘अंदाज’ में काम किया. यह फिल्म उस वक्त की सबसे ज्यादा Earning करने वाली फिल्म थी.

सन् 1950 का दशक दिलीप कुमार के लिए बहुत उपयोगी रहा, उनके द्वारा अभिनीत फिल्म जोगन, दीदार व दाग जैसी फिल्मों में उनकी शानदार एक्टिंग को देखते हुए लोग उन्हे ट्रेजडी किंग के नाम से पुकारने लगे थे.

इसके बाद दिलीप ने वैजयंतिमाला व सुचित्रा सेन के साथ देवदास फिल्म में काम किया जिसमे उन्होंने शराबी लवर का रोल बहुत ही ईमानदारी से निभाया था. इसके बाद उन्हे ट्रेजडी लवर का भी खिताब दिया गया.

इसके बाद उन्होने कई और हिट्स फिल्म कॉमिकल आजाद(1955), ऐतिहासिक मुग़ल-ए-आज़म (1960) एवं गंगा जमुना (1961) जैसी फिल्मों में काम किया.

दिलीप ने सन 1976 में फिल्मों से करीब 5 साल का ब्रेक ले लिया था, इसके बाद उन्होने फिर फिल्म क्रांति (1981) से फिल्मों में वापसी की. इसके उपरांत उन्होंने शक्ति, कर्मा एवं सौदागर में मख्य भूमिका निभाई. उनकी अंतिम फिल्म किला थी जोकि 1998 में आयी थी. इसके बाद उन्होने अभिनेता के रूप में हिंदी सिनेमा से सन्यास ले लिया.

दिलीप कुमार के अवार्ड और प्रसिद्धि – Dilip Kumar awards

दिलीप कुमार को हिंदी सिनेमा का एक चमकता हुआ तारा और एक बहुत ही महान कलाकार माना जाता है. उन्होंने हिंदी सिनेमा को एक अलग ही पहचान दी. दिलीप ने अपनी एक्टिंग के दम पर कई बार बेस्ट एक्टर के लिए वर्ल्ड अवार्ड जीते हैं, अपने जीवनकाल में उन्होंने कई अवार्ड जीते हैं जिनमें 8 बेस्ट एक्टर फिल्मफेयर अवार्ड एवं 19 फिल्मफएयर नामनिर्देशन सम्मिलित है.

दिलीप कुमार को 1933 में अपनी फिल्मफेयर की तरफ से लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड भी दिया गया था.

दिलीप कुमार को सन् 1980 में मुंबई के शेरिफ (Sheriff) के पदर पर नियुक्ति किया गया था एवं 1991 में उन्हे भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया था.

वहीं दिलीप जी को 1994 में दादासाहेव फाल्के अवार्ड एवं 2015 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. इतना ही नहीं उन्हे एनटीआर नेशनल अवार्ड सन् 1997 में देकर सम्मानित किया था.

दिलीप कुमार को 1998 में पाकिस्तान सरका ने सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार निशान ए पाकिस्तान से सम्मानित किया गया है. यह दूसरे भारतीय है जिन्हे ये सम्मान प्राप्त हुआ, इसके पूर्व देश के पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई को ये सम्मान मिला था.

उन्हे 2009 में CNN-IBN ने उन्हे लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड देकर सम्मानित किया था. दिलीप कुमार का नाम सबसे अधिक अवार्ड पाने के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल है.

दोस्तो उम्मीद है कि आपको दिलीप के कुमार के जीवन से जुड़ी जानकारी ( Dilip Kumar Biography in hindi ) आफको पसंद आयी होगी.  आप dilip kumar ki history in hindi को अपने दोस्तों के साथ Facebook & whatsapp पर शेयर कर सकते हैं. दोस्तो यदि  Life history of Dilip Kumar in Hindi language में दी जानकारी में कोई त्रुटि हो तो प्लीज कमेंट करके हमे बता सकते हैं.

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here