नाबालिक से बलात्कार केस में दोषी आसाराम के जीवन के बारे में जानें

0
80
Asharam Bapu Biography in hindi

Asharam Bapu Biography in hindi – आशाराम बापू जिनका वास्तविक नाम असुमल हरपलानी हैं, जिन्हे उनके भक्तगण आसाराम बापू या केवल बापू के नाम से ही जानते हैं। आज-कल आशाराम मीडिया की सुर्खियों में बने हुए है जिसका कारण हैं उनपर नावालिग से बलात्कार करने के मामले में उन्हे कोर्ट द्वारा दोषी ठहराते हुए उम्र कैद की सजा सुना दी हैं।

आशाराम का जीवन परिचय – Asharam Bapu Biography in hindi

आशाराम बापू का जन्म 17 अप्रैल 1941 में ब्रिटिश भारत के नवाबशाह जिले के बेराणी गाँव में जो वर्तमान में पाकिस्तान का हिस्सा है, उसमें हुआ था। आशाराम के पिता का नाम थाउमल सिरूमलानी व माता का नाम मेंगिबा हैं। सिंधी समुदाय से ताल्लुक रखने वाला उनका परिवार 1947 में स्वतंत्रता के बाद स्वयं आकर अहमदाबाद में बस गया। उनके पिता अहमदाबाद में लकड़ी और कोयले का धंधा करते थे। पिता की मृत्यु के वक्त आसाराम कक्षा 3 में पड़ रहे थे जिसे उन्हों छोड़कर पिता के कारोबार को संभाला।

आशाराम की शादी लक्ष्मीदेवी से हई थी लेकिन भगवान की खोज करने के लिए उन्होंने 23 वर्ष की उम्र में अपना घर छोड़ दिया और विभिन्न तीर्थ स्थलों पर भ्रमण करना प्रारम्भ कर दिया था। इसी बीच उनकी मुलाकात अध्यात्मिक गुरू लीलाशाह से हुई। जिन्हे आशाराम अपना गुरू बनाना चाहते थे, लेकिन उन्होंने आशाराम को समझाते हुए घर जाने के लिए कहा। आध्यात्मिक गुरू लीलाशाह ने ही उनका नाम आशाराम बापू रखा था। उनके दो बच्चे थे जिसमें एक लड़का जिसका नाम नारायण साईं है वह भी धार्मिक गुरू है।

आसाराम ने अहमदाबाद से करीब 10 किलोमीटर दूर मुटेरा कस्बे में साबरमती नदी के किनारे सन् 1972 में अपनी पहली कुटिया बनायी थी।

इसी कुटिया से आसाराम का आध्यात्मिक जीवन शुरू हुआ, धीरे-धीरे गुजरात के अन्य शहरों से होते हुए यह भारत के विभिन्न राज्यों तक फैल गया।

आसाराम शुरूआत में गुजरात के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले गरीब व आदिवासियों को अपने प्रवचन, भजन कीर्तन एवं दवाइयों देकर धीरे-धीरे आसाराम का यह कारोबार शहरों में भी पनपने लगा।

आसाराम द्वारा शुरूआती दौर में प्रवचन के बाद वितरित किये जाने वाले मुफ्त के भोजन व प्रसाद ने भी उनके भक्तों की संख्या में तेजी  से बढ़ोतरी की. कहा जाता हैं कि आसाराम के दुनियाभर में करीब चार करोड़ से भी ज्यादा अनुयायी हैं।

आसाराम द्वारा अपने पुत्र नारायण साईं के साथ मिलकर देश-विदेश में करीब 400 आश्रमों का साम्राज्य स्थापित कर लिया था।

इतना ही नहीं इन आश्रमों के अलावा आसाराम के पास करीब 10 हजार करोड़ रूपये की सम्पत्ति भई हैं जिसकी जांच प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की जा रही हैं।

दिनांक 25-04-2018 को आशाराम बापू को कोर्ट द्वारा उम्र कैद की सजा का एलान किया हैं आइये जानते हैं कि क्या था पूरा मामला।

क्या था पूरा मामला – All About Asaram Bapu Rape case

आसाराम पर वर्ष 2013 में नाबालिग लड़की के साथ रेप करने के मामले में केस दर्ज करवाया गया था जिसके बाद उन्हे पुलिस द्वारा गिरफ्तार  कर लिया गया था।

पीड़ित लड़की जिसकी उम्र 16 वर्ष थी और उसके परिवारीजनों द्वारा आरोप लगाया कि वह जोधपुर के पास मणिगांव स्थित आसाराम बापू के आश्रम में धार्मिक पढ़ाई करने के लिए रह रही थी। इसी बीच 15 अगस्त 2013 को आसाराम द्वारा नाबालिग लड़की को अपने आश्रम के एक कमरे में बुलाकर उसके साथ बलात्कार किया।

इस घटना के बाद पीड़ित लड़की के परिवारीजनों द्वारा आसाराम के बिरूद्ध कमला मार्केट पुलिस थाना दिल्ली में शिकायत दर्ज करायी थी. चूंकि घटना स्थल जोधपुर का होने के कारण दिल्ली पुलिस द्वारा इस मामलो को जोधपुर पुलिस को स्थानान्तरित कर दिया गया था।

इसे भी पढ़ें-

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here