सेवानिवृति पर रिटायरमेंट व फेयरवेल स्पीच व विदाई भाषण – Retirement Speech in Hindi

0
231
Retirement Speech in Hindi

Seva Nivrutti Par Bhashan – किसी भी व्यक्ति के जीवनकाल में एक दिन ऐसा वक़्त जरूर आता है जब वह सेवानिवृत्त होता है। सेवानिवृत्ति का पल किसी भी व्यक्ति के लिए एक भावुक पल होता है, क्योंकि प्रतिदिन ऑफिस आना, नई नई चुनौतियों के साथ काम करना, यह सब व्यक्ति की आदत बन जाती है, लेकिन अब यह सब नही रहेगा।

कई कंपनियों में सेवानिवृति पर भाषण देने का भी अवसर मिलता है, जहां व्यक्ति सेवानिवृत्ति भाषण में सभी के प्रति आभार जताता है। यदि आपके सामने यह अवसर आये तो आपका रिटायरमेंट का भाषण कुछ इस तरह होना चाहिए, जो आपके जीवन के अब तक के अनुभव और थोड़ा भविष्य की योजनाओं के बारे में बताता हो।

इसे भी पढ़ें- सेवानिवृत्ति पर बधाई संदेश

फेयरवेल स्पीच कभी भी ज्यादा बड़ा नही होना चाहिए, बल्कि सेवा निवृत्ती भाषण कुछ इस तरह से होना चाहिए जहां लोग उसे सुनने के लिए आतुर हों।

बहुत से लोगो को रिटायरमेंट स्पीच इन हिंदी नही मिल पाता है, इसलिए हम आपके लिए एक ऐसी स्पीच लाए हैं जो फेयरवेल में चार चांद लगा देगा।

सेवानिवृत्ति के अवसर पर विदाई भाषण

आदरनीय निदेशक मंडल, मेरे साथ कार्य कर रहे मेरे सहकर्मी और और xzy कंपनी से जुड़े सभी महत्वपूर्ण व्यक्तियों को

पूरे सम्मान  के साथ सर्वप्रथम मैं नमस्कार करता हूँ।

आज के इस अवसर पर आप सब के सामने मुझे दो शब्द कहने का अवसर मिला है, जो कि मेरे लिए बहुत हर्ष की बात है। इसके लिए मैं पूरे दिल से आप सभी का धन्यवाद करता हूँ।

हर व्यक्ति के जीवन मे एक दिन जरूर आता है जब वह अपनी सेवाओं से मुक्त हो जाता है। लेकिन जब मैं थोड़ा पीछे मुड़कर देखता हूँ तो लगता है कि कभी कुछ ही साल पहले तो मैने यह कंपनी जॉइन की थी, और आज यह रिटायरमेंट। यदि यह सफर मुझे इतना छोटा दिखाई दे रहा है तो इसमें कंपनी के सकारात्मक माहौल का, एक जुझारू टीम का और सबसे ज्यादा मेरे सहकर्मियों का योगदान है, जिन्होंने मेरे हर एक दिन को बहुत अच्छा बनाया है।

मैं xyz को कंपनी को भी तहे दिल से शुक्रिया करना चाहता हूं जिन्होंने मुझे एक अवसर दिया कि मैं अपना छोटा सा योगदान इस कंपनी की एक बड़ी सफलता में दे सकू। इन बीते सालों में हमने एक संगठन के रूप में कई तरह के दिन देखे, कई उतार चढ़ाव भले पल भी आए जहां हम एक कंपनी के रूप में कुछ घाटे में चल रहे थे, लेकिन इस कंपनी की सबसे बड़ी ताकत है यहां पर काम कर रहे लोग।

Advertisement

यहां पर काम कर रहा हर एक व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी को बहुत अच्छी तरह से समझते हैं, यही हमारी सबसे बड़ी ताकत रही। इस ताकत के बल पर कंपनी बुरे वक्त से भी उभरी और सफलता के एक नए मुकाम को छूने में भी कामयाब हुई।

इस कंपनी के साथ जुड़कर मैंने कुछ सीखा है। मुझे याद है किस तरह से मुझे यहां वक़्त की पाबंदी का सबक मिला था। एक बड़ी टीम का हिस्सा बनना और अपने सहकर्मियों के साथ तालमेल बिठाने का हुनर भी मैंने यही सीखा है।

हम सबकी जिंदगी में पर्सनल लाइफ और प्रोफेशनल लाइफ साथ साथ चलती है। मुझे यह बात कहते हुए आज बहुत गर्व भी हो रहा  है कि इस कंपनी के निदेशक मंडल भी परिवार के महत्व को बहुत अच्छी तरह समझते हैं। इसलिए जब भी मेरे परिवार को मुझसे ज्यादा वक्त की मांग हुई तब तब कंपनी ने मुझे वह कीमती परिवार के साथ बिताने का मौका दिया, जिसके लिए मैं जितना शुक्रिया करूँ वह कम है। इतने वर्षो के दौरान कई मित्र भी बने, जिन्होंने कई मुश्किल परिस्थितियों में मेरी मदद की, उन सब का भी मैं शुक्रिया करता हूँ।

मुझे गर्व महसूस होता है कि xyz कंपनी में मैं इतने वर्षों तक काम किया हूँ। अब कंपनी को जरूरत है कि नई प्रतिभा कंपनी में आए और अपने युवा जोश के साथ वह कंपनी को और अधिक सफल बनाने की कोशिश करें। मुझे आशा है कि आगे भी कंपनी सफलता के नए नए चरण पार करती जाएगी और गाहकों की जरूरतों की इसी तरह पूरा करेगी।

दोस्तों आपके लिए मैं बस यही कहूंगा कि आप लिए यहां बहुत कुछ है सीखने को। आप बस पूरी निष्ठा के साथ प्रयास करते रहे, नई चुनौतियों को परेशानी की तरह नही बल्कि सीखने के नए अवसर के तौर पर देखे। इस शाम को यादगार बनाने के लिए एक बार फिर आप सभी को तहे दिल से शुक्रिया।

धन्यवाद

इसे भी पढ़ें- धीरूभाई अंबानी के प्रेरणादायक अनमोल विचार ( सुविचार )

उम्मीद है कि आपको सेवानिवृत्ति के अवसर पर विदाई भाषण अच्छा लगा होगा, आप इस भाषण को अपने गुरूजन, सीनियर व जूनियर के रिटायरमेंट पर स्पीच के रूप में उपयोग कर सकते हो। धन्यबाद

Advertisement

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here