दिल के दौरा ( हृदय घात ) क्या हैं , कारण , लक्षण और उपाय

0
150
Heart-Attack-Symptoms-in-hindi

Heart Disease Symptoms in Hindi – हृदयघात जिसे हम दिल का दौरा भी कहते हैं। Heart Attack वर्तमान में एक बहुत ही गंभीर बीमारी बन गई हैं। प्रायः देखा जा रहा है कि आज कल युवाओं में जिनकी उम्र 20 से 25 साल है उनको भी यह समस्या अपनी चपेट में लेने लगी है जबकि कुछ समय पूर्व Heart Attack 40 साल से ऊपर के व्यक्तियों में देखने को मिलता था।

जिस व्यक्ति को Heart Attack हुआ है यदि उस व्यक्ति को समय से उपचार नहीं मिला तो उसकी मृत्यु भी हो सकती हैं। डॉक्टर्स के मुताविक Heart Attack से पीड़ित व्यक्ति को जितनी जल्दी चिकित्सीय सहायता मिलती है उतना ही उसके लिए अच्छा होता है और उसके हृदय को उतनी ही कम क्षति पहुंचती है।

आखिर क्यों होता है Heart Attack? Heart Attack Causes in Hindi

हृदय हमारे सीने के मध्य भाग में थोड़ा बांयी तरफ स्थित होता हैं और यह शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है। हमारा दिल और शरीर एक दूसरे के पूरक है दोनों स्वस्थ रहना बहुत ही जरूरी है।

Heart के बारे में बात करें तो एक स्वस्थ इंसान का दिल पूरे दि में करीब 10,0000 और एक मिनट में 60-90 बार धड़कता है। हमारा दिल मांसपेशियों से बना होता है जिन्हे सही रूप से कार्य करने के लिए संतुलित आहार और ऑक्सिजन की आवश्यकता होती है।

हृदय विशेषज्ञ के अनुसार जब हमारे Heart की मासपेशियों को Blood के साथ Oxygen पहुँचाने वालीं रक्त वाहिकाओं में से की रक्त वाहिका किसी कारण से बन्द ( Blocked ) हो जाती है और हमारे दिल के किसी हिस्से में रक्त का प्रवाह बंद हो जाता है तब दिल का दौरा पड़ता है।

प्रायः देखा जाता है कई बार दिल का दौरा छोटा पड़ता है लेकिन कोई जरूरी नहीं की प्रत्येक बार दिल का दौरा छोटा ही पड़े, देखा गया है कई बार रोगी की Heart Attack के कारण मृत्यु भी हो गई है। तो जब भी Heart Attack जैसी कोई समस्या हो तो जितना जल्दी हो सके डॉक्टर के पास मरीज के ले जायें। यदि Heart Attack पीड़ित को 15 मिनट के अंदर चिकित्सीय सुविधा मिल जाये तो उसकी जान को कम जोखिम होगा लेकिन यदि इसमें 10-12 घंटे लग गये तो रोगी का बच पाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। Heart Attack एक आपातकालीन स्थिति होती है जिसमें वयक्ति को Heart Attack के सभी लक्षणों के बारे में जानकारी होना बहुत ही जरूरी होता है। तो आइये जानते हैं हृदयघात के प्रमुख लक्षणों के बारे में।

हृदयघात के प्रमुख लक्षण – Heart Attack Symptoms in hindi

सीने में दर्द – Heart Attack का प्रमुख लक्षण सीने में दर्द है। जब भी कभी सीने में भारीपन जैसा कुछ महसूस हो तो यह दिल का दौरा हो सकता हैं ऐसी स्थिति में नजरअंदाज नहीं करना चाहिए बल्कि तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना जरूरी होता है।

तेज धड़कन/Heart Rate  व Pukse –  तेज और अनियमित रूप से Pulse और दिल का धड़कना, दिल के दौरे का लक्षण हो सकता हैं। यदि यह समस्या अचानक बढ जाती है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

सांस लेने में तकलीफ – Heart Attack पड़ने पर दिल पर अतिरिक्त दबाव पड़ता जिस कारण सांस लेने में तकलीफ होती है। यदि बिना मेहनत या किसी कारण के थकान महसूस होती है या हमेशा थकावट महसूस करते हैं तो डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करें। यह समस्या मुख्य रूप से महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है।

पसीन अधिक आना – विना किसी कारण के सामान्य से ज्याद पसीना आना हृदय की समस्याओं की पूर्व चेतावनी है। रक्त वाहिकाओं में रूकावट होने के कारण रक्त को दिल तक पहुंचने में बहुत मशक्कत करनी पड़ती है जिस कारण अतिरिक्त तनाव में शरीर को नीचा बनाए रखने के लिए अधिक पसीना आता है। यदि आपको बिना कारण के ज्यादा पसीना आता है तो एक बार डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करें।

चिंता- लगातार होने वाली चिंता और घबराहट को जीवन में होने वाले विशिष्ट तनाव से नहीं जोड़ा जा सकता है। रात में सोने में कठिनाई होना या घबराहट होना और अचानक उठ जाना यह दिल का दौरा पड़ने से पहले दिखने वाले लक्षण हो सकते हैं।

फ्लू जैसे लक्षण – फ्लू और हार्ट अटैक के लक्षण लगभग मिलते जुलते होते हैं इसमें शरीर चिपचिप व पसीने से तर हो जाता है इसके साथ ही शरीर में थकावट व कमजोरी महसूस होती है। सीने में भारीपन या दबाव जैसा महसूस होने पर लोग इसे चैस्ट कोल्ड या फ्लू होने का भी संदेह करते हैं तो यहां भ्रमित नहीं हों डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करें, यह Heart Attack के भी लक्षण भी हो सकते हैं।

बदनदर्द – दिल का दौरा पड़ने पर शरीर के अन्य हिस्सों में भी दर्द जैसा महसूस हो सकता हैं। कभी कभी यह दर्द शरीर के किसी भी हिस्से से स्टार्ट होकर सीने तक पहुंचता है। इन लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए तुरंत डाक्टर से सलाह लें।

जी मचलाना या उल्टी – देखा जाता है कई बार अचानक एसिडिटी के लक्षण नजर आते हैं जिसे लोग पेट से जुड़ी समस्या समझकर नजरअंदाज कर देते हैं तो यहां सावधान रहने की जरूरत है यह दिल के दौरे के भी लक्षण हो सकते हैं।

अन्य लक्षण- डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों को हार्ट अटैक के समय तेज दर्द , पसीना आना, दिमाग में हल्कापन लगाना या फिर कुछ  क्षणों के लिए अंधेरा छा जाना आदि सामान्य लक्षण हैं।

महिलाओ में हार्ट अटैक के लक्षण ज्यादा दिखाईं नहीं देते हैं लेकिन उन्हे सामान्य कमजोरी होती है जिस पर ध्यान नहीं दिया जाता है लेकिन वही कमजोरी बाद में बहुत बड़ी समस्या का रूप धारण कर लती है।

हृद्यघात होने पर क्या करना चाहिए? –  first aid for heart attack

Heart Attack पड़ने पर विना बिलम्ब के जितना जल्दी हो सकते चिकित्सीय साहयता लेनी चाहिए। यदि आपके नजदीक कोई अस्पताल नहीं है तो आप एम्बूलेंस हेल्पलाइन नम्बर ( Ambulance Helpline Number ) – 102 पर कॉल करके एम्बुलेंस बुला सकते हैं। इसके साथ ही दूसरा मेडिकल हेल्पलाइन नंबर ( Medical Helpline Number ) -104 पर कॉल करके स्वास्थ्य सम्बन्धी मामलों में सहायता ले सकते हैं। बिना किसी जानकारी के स्वंय दिल के दौरे से निपटने की भूल न करें यह घातक हो सकती है।

जब भी दिल का दौरा पड़े तो पीड़ित को पीठ के बल सीधा लिटा देना चाहिए और उसके वस्त्रों को ढीला कर दें, हवा लगने दें और मरीज को लंबी सांस लेने के लिए बोलें। यदि मरीज को सांस लेने में कोई परेशानी हो रही है तो ऑक्सीजन देने की कोशिश करें।

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here