योगा पर खूबसूरत कविताएं

0
75
Short-Poems-On-Yoga-In-Hindi

Short Poems On Yoga In Hindi | Yog Diwas Par Kavita | Hindi Poem On Yoga Day for Kids। योगा पर खूबसूरत कविताओं का संग्रह जिन्हे आप योगा दिवस पर अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं।

Read MoreYoga Shayari in Hindi । योगा दिवस पर शायरी

Short-Poems-On-Yoga-In-Hindi

आओ हम सब मिलकर योग दिवस मनायें,
गांव-गांव और शहर-शहर में, इसकी अलख जगायें

योग का मतलब है जोड़ना,
मोह को मन से तोड़ना,
मानव को प्रकृति से जोड़ना,
चित्त की वृत्तियों को सिकोड़ना।
बस इतनी सी बात, लोगों को समझायें
आओ हम सब मिलकर, योग दिवस मनायें।

इसमें न कोई खर्चा, न कोई और दिखावा है,
स्वस्थ रहें हम कैसे, बस इसका ही बढ़ावा है।
लेकर चटाई हम सब, धरती पर बैठ जायें,
आओ हम सब मिलकर, योग दिवस मनायें।

चाहे खड़े हों, चाहे बैठे हों, या चाहे हों लेटे,
योग एक स॔तुलन है, विविध विधा लपेटे।
गहरी लम्बी सांस खींचकर, इसे शुरू करायें,
आओ हम सब मिलकर, योग दिवस मनायें।

पद्मासन हो वज्रासन हो, या हो चकरा आसन,
ध्यानमग्न हो बैठ जायें, बिना करे प्राशन।
सबसे पहले उठकर, इसको ही अपनायें,
आओ हम सब मिलकर योग दिवस मनायें।

योग बहुत है फायदेमंद, जैसे शाक मूल और कंद,
मिट जाये सारे मन के द्वंद्व, बिना क्लेश और बिना क्रंद।
दैनिक जीवनचर्या का, हिस्सा इसे बनायें,
आओ हम सब मिलकर योग दिवस मनायें।

आयुर्वेद और योग का, झंडा हम फहरायें,
भारतदेश और विश्व को, रोगमुक्त बनायें।
इसी प्रतिज्ञा को लेकर, हम आगे बढ़ते जायें,
आओ हम सब मिलकर योग दिवस मनायें।

डॉ. मनजीत कौर

 ****

Read More- Yoga Diwas Status in hindi । योग दिवस पर स्टेटस

Short Poems On Yoga In Hindi | Yog Diwas Par Kavita | Hindi Poem On Yoga Day for Kids। योगा दिवस पर कवितायें

 ये है योगा
इसको जो भी करेगा
वो स्वस्थ होगा
ये है योगा
जो भी रोज़ करेगा
लाभ उसे होगा
ये है योगा
आसन जो करेगा
उसका विकास होगा
ये है योगा
जो ज़ोर से हसेगा
उसका खून बढ़ेगा
ये है योगा
ये है योगा

अनुष्का सूरी

Read More– Yoga Diwas Slogans in hindi। योगा दिवस पर नारे

****

Short Poems On Yoga In Hindi | Yog Diwas Par Kavita | Hindi Poem On Yoga Day for Kids। योगा दिवस पर कवितायें

भाई अपने तन से मन से, दूर कुरोग करें।
आओ योग करें। आओ योग करें।।

स्वास्थ्य हमारा अच्छा है तो, सारा कुछ है अच्छा।
रोग ग्रसित अब नहीं एक भी, हो भारत का बच्चा।।

सूर्योदय से पहले उठकर, निपटे नित्य क्रिया।
सदा निरोगी काया जिसकी, जीवन वही जिया।।

उदाहरण कोई बन जाए, वह उद्योग करें।।
आओ योग करें। आओ योग करें।।

सांसों का भरना-निकालना, प्राणायाम हुआ।
अपने दिल-दिमाग का भाई, यह व्यायाम हुआ।।

किया भ्रामरी और भस्त्रिका, शुचि अनुलोम-विलोम।
सुन्दर है कपाल की भाती, पुलक उठे हर रोम।।

सांस-सांस द्वारा ईश्वर से, हम संयोग करें।
आओ योग करें। आओ योग करें।।

सभी शक्तियों का यह तन है, सुन्दर एक खजाना।
यौगिक क्रिया-कलापों द्वारा, सक्रिय इन्हें बनाना।।

फल-मेवा-पकवान दूध-घी, सब कुछ मिला प्रकृति से।
हमने निज खाना-पीना ही, किया विकृत दुर्मति से।।

ज्ञान और अपने विवेक से, हम सब भोग करें।
आओ योग करें। आओ योग करें।।

पानी और हवा दूषित हो, कुछ न करें ऐसा हम।
चले संभलकर थोड़ा तो यह, दुनिया बड़ी मनोरम।।

सुख से जिएं और सुख से ही, हम जीने दें सबको।
वेद-पुराण-शास्त्र सारे ही, यह बतलाते हमको।।

ईश प्रदत्त शक्ति-साधन का, हम उपयोग करें।
आओ योग करें। आओ योग करें।।

रुद्रपकाश गुप्त सरस

Read More- 

गुड मॉर्निंग शुभकामनां सन्देश योगा प्रेमियों के लिए

 

दोस्तो मुझे उम्मीद है आपको Short Poems On Yoga In Hindi बहुत पसंद आयीं होगी. यदि आपको योगा दिवस की कवितायें Hindi Poem On Yoga Day for Kids  पसंद आयीं हों तो इन्हे अपने दोस्तों के साथ Facebook  और दूसरे सोशल मीडिया साइट्स पर जरूर शेयर करें और कमेंट करक जरूर बतायें आपके यह कविताएं कैसी लगी।

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here