किसान विकास पत्र स्कीम क्या है, इसकी विशेषताएं और फायदे क्या हैं

1
2455
kisan-vikas-patra-in-hindi

What is Kisan Vikas Patra in hindi – Kisan Vikas Patra  केन्द्र सरकार की एक योजना हैं। यह निवेश की एक दीर्घकालिक जरिया हैं। यह Scheme सन् 1988 में Government of India के द्वारा चालू की गयी थी जिसे इसके दुरूपयोग की बात सामने आने पर 2011 में बंद कर दिया गया था। इसके बाद सन 2014 में इस स्कीम में कुछ संशोधन करके इस पुन: स्टार्ट किया गया।

Kisan Vikas Patra में जो अहम संशोधन किये गये हैं उनमें यदि कोई व्यक्ति 50,000 रूपये से अधिक इस योजना में Invest करता हैं तो उसे Proof के तौर पर Pan Card Submit करना होगा।

यदि इस स्कीम में 10 लाख रूपये से ज्यादा इन्वेस्ट किये जाते हैं तो Income Source Proof के बारे में जानकारी देनी पड़ेगी।

देखा जाये तो इस स्कीम का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों एवं अर्द्धृ-शहरी में रहने वाले व्यक्तियों को इस स्कीम में Investment करवाने के लिए प्रेरित करना हैं। केवीपी निवेश का एक बेहतर तरीका हैं, ये उन निवेशकों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, जो अपनी पूंजी की सुरक्षा चाहते हैं. किसान विकास पत्र ( KVP ) Investment पर एक निश्चित ब्याज ( Fixed interest ) एवं दीर्घकालिक ( long Term ) माध्यम है।

किसान विकास पत्र की विशेषताएं – Features of kisan vikas Patra

KVP का लाभ Post Office से लिया जा सकता हैं। किसान विकास पत्र के जारी होने से 02 साल 06 महीने बाद इसे Premature Cash में Convert करवाया जा सकता हैं।

KVP Scheme में कम से कम 1000 रूपये निवेश किये जा सकते हैं तथा निवेश की कोई ऊपरी सीमा नहीं हैं, अपनी क्षमता के अनुसार कितना भी इनवेस्ट कर सकते हैं।

Kisan Vikas Patra को पूरे भारत में स्थित किसी भी शहर के पोस्ट ऑफिस से दूसरे शहर के Post Office में Transfar कर सकते हैं।

इसके साथ ही KVP को किसी अन्य धारक को स्थानांन्तिरत भी कर सकते हैं।  जिसके लिए आफको डाकघर में एक आवेदन पत्र देना होगा, यहां ट्रांसफर करने के लिए शर्त यह है कि अन्य धारक ( New Holder) भी पालिसी के योग्य होना चाहिए।

किसान विकास पत्र (KVP), Investor को किसी भी Income Tax पर लाभ प्रदान नहीं करता हैं, अर्थात Maturity के दौरान मिलने वाले सम्पूर्ण धन पर Income tax के अन्तर्गत किसी तरह की कोई छूट नहीं मिलती हैं और ना ही कोई Tax Deduction at Source (TDS) Charge किया जाता है।

केवीपी राशि को आप 100 महीने ( 8 साल और 4 माह) में वापस ले सकते हैं. इस स्कीम में निवेश की गयी धनराशि दोगुनी हो जाती हैं. मान लीजिए आपने इस स्कीम में 20,000 रूपये Invest किये तो 8 साल 4 माह बाद आपकी धनराशि 40,000 रूपये हो जायेगी।

केवीपी के लिए आवश्यक योग्यता – Eligibility For Kisan Vikas Patra

यदि कोई व्यक्ति KVP Scheme में निवेश करना चाहता हैं तो उसके पास यह योग्यता होनी चाहिए-

  1. यदि कोई KVP Scheme में Investment करना चाहता है तो वह भारतीय वयस्क हो जिसकी उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी जरूरी हैं.
  2. अवयस्क या नाबालिग के नाम पर भी उनके अभिभावक ( Parents) किसान विकास पत्र खरीद सकते हैं।
  3. किसी भी संस्थान, ट्रस्ट के माध्यम से भी KVP पत्र लिया जा सकता है।
  4. दो वयस्कों के द्वारा भी Joint Scheme के माध्यम से Kisan Vikas Patra खरीदा जा सकता है।

किसान विकास पत्र के लाभ – Benefits of KPV Scheme

  • किसान विकास पत्र 1000 , 5000, 10,000, और 50,000 रूपये तक के मूल्य में में जारी किये जाते हैं।
  • यह भारत सरकार की स्कीम हैं इसलिए इसमें Invest की गयी धनराशि सुरक्षित रहती हैं और Return की गारन्टी होती है।
  • KVP Scheme में आपने जिस साल Investment करना प्रारम्भ किया है उस वक्त जो Interest Rate मिल रहा होता है वही Interest Rate आपके KVP पत्र की Maturity Period तक उपलब्ध रहता है।
  • वर्तमान में किसान विकास पत्र पर 7.8 % सालाना का रिटर्न मिल रहा है।
  • KVP में Nomination की सुविधी Available होती है।
  • यह स्कीम उन निवेशकों के लिए बहुत ही बढ़िया हैं जो Risk Free और Guarantee Return की उम्मीद करते हैं।

Loan Against Kisan Vikas Patra

  • यदि कोई व्यक्ति Kisan Vikas Patra के Against Loan लेना चाहता हैं तो इसके लिए इन बातों को पूरा करना जरूरी है-
  • लोन लेने वाले व्यक्ति के पास खुद का Kisan Vikas Patra होना जरूरी है। इसके साथ ही आपको लोन केवल व्यापार या Personel Use के लिए ही ले सकते हैं।
  • लोन आपके KVP में किये गये निवेश और Maturity Period के आधार पर Banks द्वारा Margin और Loan Amount Decide किया जाता है।
  • जिस KVP पर लोन लिया है उस लोन को Maturity Period ( 8 साल 4 महीने) से पहले जमा करना अनिवार्य है।
  • KVP के बदले दिये जाने वाले Loan Amount पर अलग-अलग बैंकों द्वारा Interest Rate अलग-अलग Charges लगते हैं जो समय समय पर बदलते रहते हैं।

सुझाव-

देखा जाये तो आप जहां भी Invest करते हैं तो वहां कुछ अच्छाइयां और कुछ बुराइयां होती है। जैसे यदि आप सरकार की सुरक्षित स्कीम में निवेश करते हैं तो वहां आपको निश्चित व्याज मिला हैं और आपके पैसे की गारन्टी होती है, लेकि वहीं नुकसान यह होता हैं कि आपके द्वारा किये गये Investment पर Rate of Return बहुत कम दी जाती है। इसका मतलब यह नहीं है कि जो Government Schemes है वह अच्छी नहीं है,वह अच्छी होती हैं लेकिन उन्ही के लिए जो बिल्कुल Risk नहीं लेना चाहते हैं या Retired हो गये हैं उनके लिए Government Scheme निवेश के लिए अच्छी होती है। वहीं जो वयस्क है और उन्होंने Investment  करने की Planning की है उनके लिए हम सुझाव देंगे कि थोड़ा Risk लेकर अपने पैसे को Mutual Fund, Equity Fund या Debt Fund में Invest करें जिसे उन्हे अपने Investment Amount पर ज्यादा Rate of Return मिल सके।

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here