अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध

0
55
international-yoga-day-essay-in-hindi

International yoga day essay and information in Hindi | योग एक ऐसी प्रभावशाली क्रिया है जिसे रेग्युलर करने से शरीर के अंग ही नहीं बल्कि हमारा मन, मस्तिष्क और आत्मा में को संतुलित बनाया जा सकता हैं। यही वजह है कि योग करने से शारीरिक परेशानियों के साथ मानसिक समस्याओं से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

योग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के युज शब्द से हुई हैं, इसका मतलब होता है आतामाक का सार्वभोमिक चेतना से मिलन। योग क्रिया आज की नहीं बल्कि इसे करीब 10 हजार साल पहले से अमल में लाया जा रहा है। वैदों के अनुसार ऋषि-मुनि व तपस्वियों के बारे में प्राचीन काल से ही वेदों में उल्लेख मिलता है। इतना ही नहीं सिंधु घाटी  सभ्यता में भी योग और समाधि को प्रदर्शित करती मूर्तियां मिली हैं।

हिन्दु धर्म में साधु, सन्यासियों व योगियों द्वारा योग सभ्यता को प्रारम्भ से ही अपनाया था लेकिन आम लोगों में इस विद्या का विस्तार उतना नहीं हुआ था जितना होना चाहिए।

international-yoga-day-essay-in-hindi

वैसे तो योग को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने का प्रयास कई योग गुरू जनों द्वारा किया गया लेकिन योग को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने की जोर शोर से पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गयी. योग को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने का प्रस्ताव रखा था। इसके बाद संयुक्त राष्ट्र में 193 सदस्यों द्वारा 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाने के प्रस्ताव को 11 दिसम्बर 2014 को मंजूर कर दिया था।

तभी से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस जिसे विश्व योग दिवस भी कहते हैं 21 जून को प्रत्येक वर्ष बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाने लगा। विश्वभर में पहली बार योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया था।

इसे भी पढ़ें- अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर नारे

योग दिवस मनाने के लिए 21 जून को ही क्यों चुना गया? Why was chosen on June 21 to celebrate Yoga Day?

21 जून को ही अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाये जाने के पीछे का कारण यह है कि इस दिन ग्रीष्म संक्रांति होती है। इसी दिन सूर्य धरती की दृष्टि से उत्तर से दक्षिण की ओर चलना प्रारम्भ करता है। यानी सूर्य जो अब तक उत्तरी गोलार्ध के सामने था, अब दक्षिणी गोलार्ध की तरफ बढऩा शुरु हो जाता है। योग के नजरिए से यह समय संक्रमण काल होता है, यानी रूपांतरण के लिए बेहतर समय होता है। इसी कारण 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में चुना गया।

इस दिन को ही योग दिवस मनाये जाने को पीछे की एक और मुख्य वजह है जिसमें जब उत्तरायण या संक्रांति के समय आदियोगी(प्रथम योगी) ने दक्षिण की ओर प्रस्थान किया और सबसे पहले उनकी नजर सप्त ऋषियों पर पड़ो जो कि आगे जोके इनके पहले शिष्ट बने. जिन्होंने विश्वभर के कई भागों में योग के विज्ञान का प्रचार प्रसार किया. यही कारण है कि 21 जून मानव इतिहास में इस महत्वपूर्ण घटना को चिन्ह्ति करता हैं. उत्तरी गोलार्द्ध में 21 जून पूरे वर्ष का सबसे लंबा दिन भी होता हैं. इसका दुनिया को कई हिस्सो में बहुत महत्व है।

योग कहां से प्रारम्भ हुआ? Where did the yoga begin?

स्वामी विवेकानंद द्वारा सन् 1893 में अमेरिका के शिकागों में विश्व धर्म संसद को संबोधित किया था, जहां उन्होंने उस वक्त के आधुनिक युग में पश्चिमी दुनिया का योग से परिचय कराया था। इसके उपरांत कई पूर्वी गुरूओं व योगियों द्वरा योग का दुनियाभर में बड़े पैमाने पर प्रसार किया जिसे लोगों द्वारा स्वीकार करना प्रारम्भ कर दिया. इतना ही नहीं योग को एक विषय के रूप में अध्यन किया जने लगा जिसका रिजल्ट यह निकला कि योग के बहुत दीर्घकालिक फायदे होते हैं।

इस घटना का इतना बड़ा फायदा हुआ कि सम्पूर्ण दुनिया के लाखों लोगों द्वारा इसको अपनाकर अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाया और काफी लाभ भी उठाये।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का उद्देश्य? The purpose of celebrating International Yoga Day?

विश्व योग दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि लोगों को योग के फायदों के बारे में जागरूक करना और उनको प्राकृतिक से जोड़ना। साथ ही लोगों को शारीरिक और मानसिक बीमारियों के प्रति जागरूक बनाना और योग के माध्यम से इसका समाधान उपलब्ध कराना।

योग से होने वाले फायदे-Benefits of yoga

  • यदि योग को रेग्युलर अपनी दिनचर्या में शामिल किया जाये तो सभी प्रकार की स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों से छुटकारा पाय जा सकता हैं।
  • योगाभ्यास से शारीर और मन दोनों स्वस्थ रहते हैं।
  • योग करने से शरीर लचीला और मांसपेशियों ताकरवर बनती हैं।
  • योग करना आज की बदलती हुई जीवन शैली में बहुत ही फायदेमंद भूमिका अदा करता हैं. यह हमे जलवायु परिवर्तन से निपटने में भी मदद कर सकता हैं।
  • योग वजन करने में और कार्डियो सिस्टम को स्वस्थ रखने में सहायता करता हैं।
  • योग हमारे शरीर में ऊर्जा और शक्ति का विकास करता हैं।
  • योग से मानसिक ही नहीं बल्कि शांतिपूर्ण वातावरण भी होता हैं।

दोस्तो इस लेख से आपको यह जानकारी देने की कोशिश की है कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 क्यों मनाया जाता है, योग की उत्पत्ति कहां से हुई, इसका क्या इतिहास है, कैसे योग भारत आया, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 का क्या थीम हैं आदि।

इन्हे भी पढ़ें-

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here