सफलता के लिए क्या करें, छात्रों के लिए सफलता के मूल मंत्र मोटिवेशनल

0
21
सफलता के लिए क्या करें, छात्रों के लिए सफलता के मूल मंत्र मोटिवेशनल

जब कोई स्टूडेंट मेहनत करता है तब वह सफल होता है। मेहनत करना और सफलता प्राप्त करना दोनों एक सिक्के के दो पहलू हैं। ‌ सभी छात्रों को यह बात याद दिलाना चाहता हूं। एपीजे अब्दुल कलाम जी ने कहा था कि इंतजार करने वालों को उतना ही मिलता है जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं। इसलिए सफलता प्राप्त करने के लिए लगातार सतत प्रयास करना चाहिए।

जीवन में लक्ष्य बनाना जरूरी

दोस्तो इसलिए जीवन का एक लक्ष्य बनाना जरूरी है। इस लक्ष्य को ईमानदारी से हासिल करने के लिए दृढ़ संकल्प ही बनना होगा। ‌ एकलव्य के पास कोई संसाधन नहीं था जंगल में रहता था लेकिन उसने अपने मन से द्रोणाचार्य को गुरु मान लिया और उनकी मूर्ति बनाकर मूर्ति के सामने धनुर्विद्या का अभ्यास करने लगा। उसका लक्ष्य था एक बड़ा धनुर्धर बनना। उसने लगन और अभ्यास के जरिए सफलता प्राप्त की।

किस्मत से नहीं किस्मत को बदलने से मिलती सफलता

दोस्तो सच्ची सफलता उसे मिलती है जो अपने लक्ष्य के प्रति हर दिन धीरे-धीरे आगे बढ़ता है। दोस्तो अक्सर लोग सोचते हैं कि हमारी किस्मत में जो होगा वही हमें मिलेगा यह सोच बहुत ही गलत है। एक सवाल एक बार  शिष्य चंद्रगुप्त ने अपने महान गुरु चाणक्य से पूछा था।‌  चंद्रगुप्त ने पूछा, अगर कोई चीज लिखी हुई है कि किस्मत में मिलेगी तो फिर प्रयास करने का क्या फायदा हुआ, वह तो आसानी से मिल ही जाएगी। ‌

तब गुरू चाणक्य इसका उत्तर देते हुए कहते हैं कि क्या पता,  यह लिखा हो कि उस चीज को पाने के लिए प्रयास करना होगा, मेहनत करनी होगी। तो दोस्तो कहने का मतलब यह है कि हमें हमेशा प्रयास करते रहना चाहिए, प्रयास करने से ही सफलता मिलती, किस्मत के भरोसे नहीं बैठना चाहिए।

डर के आगे जीत है

दोस्तो अगर आपको पढ़ाई से डर लगता है तो आप बहुत पिछड़ जायेंगे। पर आपको यह लगता है कि आप फेल हो जाएंगे तो यह डर आपके लिए बड़ा ही खतरनाक है।  जो मेहनत करता है, वह सफल होता है। इसलिए डर को त्याग देना चाहिए और जीत का स्वाद चखने के लिए तैयार हो जाना चाहिए।

जुनून है तो जीत है। पढ़ाई में मेहनत करने वाले लोग आगे बढ़ते जाते हैं।  सही दिशा में मेहनत करना जरूरी  है। सही दिशा में मेहनत करने वाला लक्ष्य से भटकता नहीं है। अगर आप सोच रहे हैं कि मैं असफल हो जाऊंगा इसलिए मेहनत करने से क्या फायदा। असफलता के डर से मेहनत न करना, यह  सबसे बड़ी बेवकूफी है।

 जीवन में आगे बढ़ने के लिए सफलता और असफलता से बड़ा सोचना होगा। ‌ आपका लक्ष्य एक संपूर्ण इंसान बनकर, अपने कार्यों के बल से इस दुनिया को बदलना होना चाहिए।

मेहनत का कोई विकल्प नहीं है

आप अपने शिक्षा और कैरियर  में असफलता के कितने भी उतार-चढ़ाव से गुजरेंगे, लेकिन सफलता की आशा कभी नहीं छोड़नी चाहिए। यदि आप  आत्मविश्वास रखेंगे तो निश्चित ही सफलता आपके कदम चूमेगी। महान विज्ञानिक एडिशन  हजार बार असफल हुए लेकिन उनकी हर असफलता ने बता दिया कि 1000 तरीके से बल्ब में रोशनी पैदा नहीं की जा सकती है। लेकिन 1000 असफलता के बाद जब उन्हें पता चला कि बल्ब को इस तरीके से बनाया जा सकता है और उससे बल्ब को रोशन किया जा सकता है।

सकारात्मक सोच दिलाती है सफलता

दोस्तो एडिशन के जीवन में असफलता थी लेकिन दिमाग में सकारात्मक सोच थी इसलिए उन्हें सफलता मिली। आपके अंदर भी पॉजिटिव एनर्जी होनी चाहिए। यह पॉजिटिव एनर्जी आपको सफलता के लिए प्रेरित करती है। कठिन मेहनत हासिल करने के लिए सकारात्मक ऊर्जा यानी पॉजिटिव एनर्जी होनी जरूरी है। ‌आपने कुछ लोगों को देखा होगा, जो शुरुआत में आत्मविश्वास और सकारात्मक ऊर्जा के साथ कोई काम शुरू करते हैं लेकिन सफलता मिलने से पहले  हतोत्साहित हो जाते हैं और उनकी सकारात्मक ऊर्जा नकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है और वह सफलता से दूर हो जाते हैं।

 हर असफल इंसान भी सफल होता है

अंग्रेजी में एक बात कही गई है “failure is not different from success, failure is a part of success journey”

गीता में भी कहा गया है, परिणाम यानी सफलता की परवाह मत कर कर्म करता जा। अच्छे कर्म का फल भी सुखद अच्छा होता है।

इन बातों का ध्यान हमेशा रखना चाहिए।

दोस्तो आपको अपने में सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखना है। आप निगेटिव एनर्जी वाले ऐसे लोगों से दूर रहें, जो आपके हर काम में कमियां निकालते हैं। असल में वह आपकी उत्साहित ऊर्जा से डरे हुए हैं। ‌ ऐसे लोग आपको कामयाबी के रास्ते पर बढ़ने से रोकना चाहते हैं। इस तरह के लोगों की पहचान आसानी से कर सकते हैं। अपने आसपास नजर दौड़ाइए कुछ ऐसे रिश्तेदार, नातेदार, दोस्त , पड़ोसी मिल जाएंगे।  जो आपको सफल देखना नहीं चाहते हैं। हर बात पर आपकी कमियां निकालते रहते हैं। ऐसे लोगों से सावधान रहिए।

सफलता के लिए एक अच्छा मेंटर बनाएं

  एक अच्छा मेंटर का मतलब पथ प्रदर्शक होता है।  जो आपकी सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है। आपका उत्साहवर्धन करता है। आपकी तारीफ करता है। आपको सही सलाह देता है। दोस्तो ‌ ध्यान दीजिए आपके आसपास ऐसे बहुत से लोग हैं, जो आपकी हर एक गतिविधियों की तारीफ करते हैं। आपकी असफलता से उन्हें भी दुख होता है और सफलता से उन्हें खुशी मिलती है।‌  ऐसे लोग आपके मेंटर हो सकते हैं‌। इनमें से कोई एक मेंटर यानी पथ प्रदर्शक से आप जुड़िए। इस तरह के अनुभवी लोगों के पास ढेर सारा अनुभव ज्ञान होता है जो आपको मिलता है।

अपने आसपास खोजिए, आपके जीवन के आसपास आपके कई शुभचिंतक हैं, जो आपके मेंटर यानी पथ प्रदर्शक बन सकते हैं।  आपके जीवन का मेंटर आपका कोई टीचर,  बड़ा भाई या कोई ऐसा व्यक्ति हो सकता है, जो आपको आगे बढ़ने में मदद कर सकता है।

सफलता के लिए सकारात्मक ऊर्जा से भरे रहिए

दोस्तो याद रखिए जीवन में सकारात्मक ऊर्जा आपके लिए सफलता का द्वार खोलती है। सूरज की हर रोशनी से जीवन पलता है और ये सकारात्मक एनर्जी जब आप में आती है तो आपको सफलता success मिलती है।

सफलता मेहनत का वह बीज है, जिसे लगाने के बादउसकी देखभाल करनी होती है।

मेहनत रूपी यह पेड़ जब बड़ा होता है, तो इस पर सफलता का फल लगता है।

अगर हम अपने अंदर के डर को निकाल फेंके

और लक्ष्य की ओर अर्जुन की तरह देखें। ‌

सफलता मिलना निश्चित है

इसलिए गौर करना चाहिए-

 कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता,

एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो।

जब भी घबराओ अपने जीवन में ,

तो इन बातों को हमेशा याद रखना।

अनमोल है जीवन यारों,

 इस धरती पर कुछ कर जाना है।

नाम कमा कर, इस जगत को कुछ दे जाना है।

बहुत आएंगी कठिनाइयां जीवन में

याद बस इतना रखते जाना है

जब बढ़ेंगे हर कदम

हर कदम पर एक नया रास्ता बनाना है

अनमोल है जीवन यारों,

इस धरती पर कुछ कर जाना है।

जानो जीवन की सच्चाई

दोस्तो आत्मविश्वास जीवन के लिए अच्छा है , लेकिन हमें जीवन की सच्चाई को भी समझते रहना है।

दोस्तो सफलता उनके कदम ही चूमती है जो जीवन को बारीक नजरों से देखते हैं।

अगर कोई तुम्हें समझे छोटा समझें तो तुम घबराओ नहीं।

कोई तुम्हें पसंद करे या ना पसंद करें, इन सब चक्करों से दूर तुम्हें, अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करना है।

हर इंसान में होती है काबिलियत

बस उस काबिलियत को पहचानना है।

कंपटीशन खुद से करो किसी और से नहीं

छात्रों याद रखना कंपटीशन किसी से नहीं करना है, कंपटीशन खुद से करना है। क्योंकि आपका लक्ष्य अपने लिए है। इसलिए कंपटीशन अपने मन से और अपनी सोच से करते हुए आगे बढ़ना है। आपको कंपटीशन अपने मन में छुपे नकारात्मक सोच से करना है उसे पकड़ना है। मन में बैठे उस डर से कंपटीशन करना है तभी आप को लक्ष्य यानी सफलता हासिल होगी।

इंसान ने कभी सोचा नहीं था कि वह चांद की खूबसूरती का बयान अपनी कविताओं में करता है लेकिन एक दिन वही इंसान चांद की धरती पर पहला कदम रखता है।

 उसके अनुभव को जब पूरी दुनिया में शेयर किया गया।

तो कवि लोग परेशान हो गए, भइया  जिस चांद की खूबसूरती का वर्णन करते थे, वही चांद निर्जन और बेजान है। सफलता नया ज्ञान देती है। सफलता एक नई सोच पैदा करती है और एक नई सोच ही सफलता लाती है। कवियों ने चांद की दूसरी उपमा देना शुरू कर दिया। चांद का मुंह टेढ़ा।

आज के दिन से हजारों साल पीछे चले जाएं तब से लेकर अब तक सफलता ने ही इंसान को आगे बढ़ाया है और इंसान ने अपने हाथों से मेहनत कर कई असफलताओं के बाद  सफलताएं लिखी हैं। असफल होना हमारी आधी अधूरी तैयारी को बताता है या मन से किए गए प्रयास की कमी को दिखाता है। ‌ दोबारा फिर सफलता की चाह रखकर  कर्म करना चाहिए। सफलता जरूर मिलती है।

दोस्तो घबराए नहीं जीवन को सफल बनाने के लिए आपकी हर एक सोच और हर एक मेहनत की छोटी छोटी कड़ियां, आपको जरूर सफल बनाएगी। आप सफलता का ऐसा कीर्तिमान स्थापित करेंगे, यह दुनिया भी आप की मिसाल देगी।

साधना अजबगजबजानकारी की एडिटर और Owner हूं। मैं हिंदी भाषा में रूचि रखती हूं। मैं अजब गजब जानकारी के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हूं | मुझे ज्यादा SEO के बारे में जानकारी तो नहीं थी लेकिन फिर भी मैने हार नहीं मानी और आज मेरा ब्लॉग अच्छे से काम कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here