तेजप्रताप ने अपना सरकारी आबास कर दिया खाली ,लेकिन खाली करते बक्त जो बजह बताई उसे सुनने के लिए कुर्सी थाम के बैठना होगा

0
370
source

राजनीति बड़ी कुत्ती चीज है साहेब जिसने भी यह लेने कही होगी बड़ी ही सोच समझ कर बोला होगा। की किस तरह से लोग राजनीति में सिर्फ अपनी ही सत्ता चाहते है और बाकी लोग तेल लेने जाए। राजनीति के सिंघासन पर जो एक बार चढ़ गया बह उतरने का नाम नहीं लेता है।

अब ऐसा ही एक मामला परिबार बाद और उनके नए युवा लड़को के बारे में बताते है ,बह खुद तो कभी स्कूल गए नहीं तो क्या हुआ पापा तो मुख्यमंत्री थे न तो उनकी पार्टी ने अपनी सह्म्मति से उन्हें स्वास्थ्य मंत्री बना दिया। अब आप खुद सोचो की जिस प्रदेश का मंत्री अंगूठा छाप हो और बह भी स्वास्थ्य मंत्री तो उस प्रदेश की जनता का स्वास्थ्य भगबान भरोशे ही चलता होगा। क्यूंकि अगर किसी पढ़े लिखे डॉक्टर ने कुछ दे दिया मंत्री जी को पढ़ने के लिए तो बह तो पढ़ नहीं पाएंगे ,हालंकि ऐसे प्रदेश के डॉक्टर भी ऐसे ही होते है। और खूब सारी नक़ल बाली मेहनत करके प्रदेश के अंदर बड़े नाम चीन डॉक्टर बन जाते है। और उन्ही प्रदेश की जनता की सेबा करते है जिस जनता ने उन अनपढ़ मंत्री जी को वोट दे कर मंत्रलय दिलवाया। बह कहा जाता है न जैसी करनी बैसी भरनी। आप जैसा बीज बोएगे बैसा बीज काटेंगे। चलिए छोड़िये साहब इन सब बातो में क्या रखा है। आप असल न्यूज़ पढ़िए।

source
source

तो बात कुछ इस तरह से है की विहार ,,हां हां भाई बही विहार जंहा के मुख्यमंत्री श्री लालू प्रशाद यादव जी थे। लेकिन अब का करे भाई इस किस्मत का लालू जी का आज कल बिलकुल ही साथ नाही देती है। अब आप खुद ही देख रहे होंगे की जब मुख्यमंत्री थे तब कोर्ट ने जेल भेज दिया तब अपनी पत्नी को मुख्यमंत्री बनाना पद गया। अब किस्मत देखिये आप जिस इंसान ने पूरी जिंदगी मेहनत की मुख्यमंत्री बनने की उसको जब पद नशीब हुआ तो जेल भेज दिया। अब भाई का बताये इन सब बातो का इसके बाद देखिये बेटे से उम्मीद थे मगर मोदी जी गेम खेल गए और बेटो को मंत्री पद से हाँथ धोना पढ़ गया। अब भाई किसी मुख्यमंत्री के बेटे को आप सत्ता से हटा कर रोड पर ला दोगे अरे नहीं भाई आप गलत पढ़ लिए रोड नहीं अच्छी बाली कार में ला दोगे जिसमे बह सरकार के पैसो की जगह पार्टी फंड से तेल डलवा कर अपना खर्चा चलाएंगे तो। तो कुछ तो सोचा होता मोदी जी। क्या उनके पिता श्री , श्री मान लालू प्रशाद यादव जी आप पर गुस्सा नहीं करेंगे का।

source
source

अब जब उनके बेटे को आपने अपनी कुर्शी से हटा दिया तो बह गुस्सा हो गए ,तो इसका मतलब तो यह बनता है की आपको भी गुस्सा करके उनसे खेद प्रकट कर लेना चाइये था , बेकार मैं भूत से इतनी मेहनत करवा ली। और जब आपको छोड़ना ही था भूत तो कुछ दिन पहले छोड़ दिए होते कम से कम बंगला तो किसी और को मिल जाता। कमाल करते हो मोदी जी आप भी ”ऐसा कौन करता है भई ”

अब आप सभी लोग खुद ही देख लीजिये की लालू प्रशाद यादव जी के बेटे ने इस बार क्या किया है। इस बार तो तेज प्रताप यादव ने ऐसी हरकत की है जानकर आप भी चौंक जाएंगे. जी हाँ आपको बता दें कि तेज प्रताप ने पिछले सप्ताह अपना आधिकारिक आवास छोड़ दिया. इसके छोड़ने के पीछे की वजग बहुत ही मजेदार है.

तेज प्रताप ने कहा है की उन्होंने अपना सरकारी आबास इसलिए छोड़ा है। की उनको घर से भगाने के लिए मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने उनके घर के अंदर भूत छोड़ दिया है। तेज प्रताप ने मीडिया को बताया है की ”आज मैंने बह अपनी सरकारी कोठी छोड़ने का फैशला किया हुआ है क्यूंकि मुख्यमंत्री और उप -मुख्यमंत्री ने उनके आबास पर एक भूत छोड़ा हुआ है। और बह भूत मुझे परेशान कर रहे थे।

आपको एक बात और बता दे की तेज प्रताप कुछ ज्यादा ही धार्मिक प्रबर्ती के इंसान है ,और उनकी इस तरह की बातो से यह प्रतीत भी होता है की बह भरपूर रूप से अंधिविश्वाशी भी है। खबरों के मुताबिक़ पता चला है की जब केंद्र की जाँच एजेंसियां उनके खिलाफ भरस्टाचार में लिप्त होने के मामले को लेकर जांच कर रही थी। तब बह अपने घर के अंदर ‘दुश्मन मारन जाप’ भी करवाया था। खबरो के मुताबिक तेज प्रताप ने पंडितो की सलाह पर अपने घर के एक दरबाजे को सिर्फ इस लिए बंद करवा दिया था क्यूंकि उस का मुंह दक्षिण दिशा की तरफ खुलता था।

(source : news portal )

REGISTER करें और पायें प्रत्येक Educational and Interesting Post, अपने EMail पर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here