सच्चे मित्र के बारे में इन बातों को जरूर जानना चाहिए

Sign of best friends in hindi :सच्चा मित्र वह नहीं है जो आपके सामने बैठकर चिकनी चुपड़ी बातें करें और पीठ के पीछे आपकी बुराइयां करें। सच्चा दोस्त वह होता है जो आपके हर अच्छे बुरे समय में विश्वास करता हो और आपकी अच्छी बुरी आदतों को आपको बताता भी हो। सच्चे मित्रों की संख्या ज्यादा नहीं होती है वह केवल 1 या दो ही होते हैं। शास्त्रों में सच्चे मित्र और शत्रु को लेकर कई बातें बताई गई हैं। जिन्हें समझ कर कोई भी अपने मित्र और शत्रु को पहचान सकता है। शास्त्रों के अनुसार, जिस व्यक्ति में ये गुण होते हैं, वह एक सच्चा मित्र होता है और कभी भी उसका साथ नहीं छोड़ना चाहिए।

सच्चे दोस्त की निशानी | Signs Of Best Friend 

जरूरत पड़ने पर आपकी धन देकर हेल्प करें
जीवन में कभी-कभी ऐसा समय भी आ जाता है, जब भावनात्मक सहायता के साथ-साथ रूपय-पैसों की भी जरुरत पड़ती हैं। ऐसे में कोई भी आपकी मदद के लिए आगे नहीं आता। जो मित्र मुश्किल समय में आपकी रूपया-पैसा आदि देकर हेल्प करते हैं, वही सच्चे मित्र होते हैं।

आपको अच्छे कामों के लिए प्रेरित करें
सच्चा मित्र वही होता है जो आपको अच्छे कामों व जीवन में हर मोड़ पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं। कई लोग हमारा ध्यान बुरे कामो की ओर ले जाते हैं जिससे हमारा समय एवं भविष्य दोनों खराब होते हैं, ऐसा लोग आपके कभी भी सच्चे मित्र नहीं हो सकते हैं, इनसे सावधान रहें।

बुरे समय में भी आपका साथ दे
किसी भी इंसान को ऐसे व्यक्ति की मित्रता पर कभी भी संदेह नहीं करना चाहिए जो आपके बुरे समय में आपका साथ कभी नहीं छोड़े।  अच्छे समय में तो हर कोई साथ देता है, जो व्यक्ति लेकिन बुरे समय में साथ न छोड़े वही सच्चा मित्र होता है।

आपके द्वारा की जा रहीं गलतियों को बताए
कई व्यक्ति अपने आपको, आपका बहुत प्रिय बने रहने के लिए आपकी किसी भी बराई को बताता नहीं होता है, जिसका परिणाम यह होता है कि वह गलतियां भविष्य में आपका बहुत नुकसान करती हैं । ऐसे में जो आपकी गलतियों को बताता है वही आपका सच्चा मित्र होता है। यहां आपका भी दायित्व बनता है कि उसकी द्वारा बताई गयी बातों को निगेटिव न लेकर उन्हे सुनकर सुधारने की कोशिश करें।

सार्वजनिक स्थान पर आपकी बेइज्जती न करें
सच्चा मित्र वही होता है जो आपकी बुराइयों या अवगुणों को किसी भी व्यक्ति के सामने या सार्वजनिक स्थान पर व्यक्त नहीं करता है। अकेले में वह आपकी सभी बुराइयां और अवगुण बताकर उन्हें सुधारने की सलाह तो देगा, लेकिन दूसरों के सामने आपको नीचा कभी नहीं दिखाएंगा।

सार्वजनिक स्थान पर आपके अच्छे गुणों की तारीफ करे
आज-कल के समय में हर कोई दूसरों को नीचा दिखाने की कोशिश में लगा रहता है, ऐसे में दूसरों के सामने आपके गुणों की तारीफ़ करने वाला ही सच्चा मित्र होता है। सच्चा मित्र वही होता है, जो आपके गुणों की तारीफ़ करने में पीछे नहीं रहे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 Shares