Shayari on friendship in hindi | Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से Part- 1

Friendship shayari in hindi, हिंदी शायरी दोस्ती के लिये, friendship shayari in english

-1-

हम से पूछो ना दोस्ती का सिला
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा

सुदर्शन फाकिर

Ham se poochho na dosti ka sila
Dushmanon ka bhi dil hila dega

Sudarshan Faakir

-2-

बदगुमाँ हो के मिल ऐ दोस्त जो मिलना है तुझे
ये झिझकते हुए मिलना कोई मिलना भी नहीं

फिराक गोरखपुरी

Badgumaan ho ke mil ae dost jo milna hai tujhe
Ye jhijhkte hue milna koi milna bhi nahin

Firaq Gorakhpuri

-3-

दोस्तों को भी मिले दर्द की दौलत या रब
मेरा अपना ही भला हो मुझे मंज़ूर नहीं

हफ़ीज़ जालंधरी

Doston ko bhi mile dard ki daulat ya rab
Mera apna hi bhala ho mujhe manjoor nahin

Hafeez Jalandhari

-4-

हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना

अहमद फ़राज़

Hajoom e doston se jab kabhi fursat mile
Agar samjho munasib to hame bhi yaad kar lena

Ahmad Faraz

-5-

हम पे गुज़रा है वो भी वक़्त ‘ख़ुमार’
जब शनासा भी अजनबी से मिले

खुमार बाराबंकवी

Hum pe gujra hai wo bhi waqt ‘Khumar’
Jab shanaasa bhi ajnabi se mile

Khumar Barabankvi

इसे भी पढ़ें-  Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से

-6-

ये सोच कर भी हँस न सके हम शिकस्ता-दिल
यारान-ए-ग़म-गुसार का दिल टूट जाएगा

नरेश कुमार शाद

Yw soch kar bhi hans na sake ham shikasta-dil
Yaaran-e-gham-gusaar ka dil tut jaayega

Naresh kumar shad

-7-

हम ने सुना था की दोस्त वफ़ा करते हैं “फ़राज़”
जब हम ने किया भरोसा तो रिवायत ही बदल गई

अहमद फ़राज़

Ham ne suna tha ki dost wafa karte hai “Faraz”
Jab humne kiya bharosa to rivayat hee badal gai

Ahmad Faraz

-8-

ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए
तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए

अहमद फ़राज़

Ye kah kar mujhe mere dushman hansta chhod gaye
Tere dost kaafi hain tujhe rulane ke liye

Ahmad Faraz

-9-

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर

अहमद फ़राज़

Mere doston ki pehchaan itni musqil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar

Ahmad Faraz

-10-

शिद्दत-ए-दरद से शर्मिंदा नहीं मेरी वफा “फराज़”
दोस्त गहरे हैं तो फिर जख्म भी गहरे होंगे

अहमद फ़राज़

Shiddat-E-Dard se sharminda nahi meri wafa “Faraz”,
Dost gehrey hain to phir zakham bhi gehre honge

Ahmad Faraz

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 Shares