Shayari on friendship in hindi | Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से Part- 3

Friendship shayari in hindi, हिंदी शायरी दोस्ती के लिये, friendship shayari in english

-1-

आड़े आया न कोई मुश्किल में
मशवरे दे के हट गए अहबाब

(मशवरे  =  सलाह;  अहबाब  =  दोस्त, परिचित)

जोश मलीहाबादी

Aade aaya na koi mushqil mein
Mashware de ke hat gaye ahbaab

Josh Malihabadi

यह भी पढ़ें – Shayari on friendship in hindi | Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से Part- 2

-2-

ग़ैरों को क्या पड़ी है कि रुस्वा करें मुझे
इन साज़िशों में हाथ किसी आश्ना का है

(आश्ना  =  परिचित)

असअद बदायुनी

Gairon ko kya padi hai ki ruswa karein mujhe
In sazishon mein haath kisi aashna ka hai

Asad Badayuni

-3-

तुम अपने दोस्तों के ज़रा नाम तो बता दो
मैं अपने दुश्मनों की तादाद तो समझ लूँ

अज्ञात

Tum apne doston ke zara naam to bata do
Main apne dushmanon ki taadaad to samjh loon

Unknown

-4-

मुझे मेरे दोस्तों से बचाइये “राही”
दुश्मनों से मैं ख़ुद निपट लूँगा

सईद राही

Mujhe mere doston se bachaaiye “Rahi”
Dushmanon se mein khud nipat loonga

Saeed Rahi

-5-

यह कहाँ की दोस्ती है कि बने हैं दोस्त़ नासेह
कोई चारासाज होता कोई गमगुसार होता

मिर्जा गालिब

(नासेह = नसीहत करने वाला, उपदेश देनेवाला; चारासाज  = चिकित्सक; गमगुसार  =  हमदर्द, दर्द बांटने वाला)

Yah kahan ki dosti hai ki bane hain dost naaseh
Koi chaarsaaz hota koi ghamgusar hota

Mirza Ghalib

यह भी पढ़ें – Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से Part- 2

-6-

दुश्मनी जम कर करो मगर इतना याद रहे
जब भी फिर दोस्त बन जाये, शर्मिन्दा न हो

बशीर बद्र

Dushmani jam kar karo magar itna yaad rahe
Jab bhi phir dost ban jaaye, sharminda na ho

Bashir Badr

-7-

दोस्ती आम है लेकिन ऐ दोस्त
दोस्त मिलता है बड़ी मुश्किल से

हफ़ीज़ होशियारपुरी

Dosti aam hai leqin ae dost
Dost milta hai badi mushqil se

Hafeez Hoshiarpuri

-8-

वो ज़माना भी तुम्हें याद है तुम कहते थे
दोस्त दुनिया में नहीं “दाग” से बेहतर अपना

दाग देहलवी

Wo zamaana bhi tumhein yaad hai tum kehate the
Dost duniya mein nahin “Dagh” se behatar apna

Daag dehlvi

-9-

दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए

राहत इंदौरी

Dosti jab kisi se ki jaaye
Dushmanon ki bhi raay li jaaye

Rahat Indori

-10-

जहाँ दुनिया निगाहें फेर लेगी
वहाँ ऐ दोस्त तुमको हम मिलेंगे

रविश सिद्दकी

Jahan duniya nigaahein fer legi
Wahan ae dost tumko ham milenge

Ravish Siddiqui

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 Shares