Shayari on friendship in hindi | Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से Part- 4

Friendship shayari in hindi, हिंदी शायरी दोस्ती के लिये, friendship shayari in english

-1-

मुझको ही तलब का ढब नहीं आया
वरना ऐ दोस्त तेरे पास क्या नहीं था?

नदीम कासिमी

Muhko ho talab ka dhab nahin aaya
Warna ae dost tere paas kya nahin tha.

Nadeem Qasimi

-2-

देखा जो तीर खा के कमीं-गाह की तरफ़
अपने ही दोस्तों से मुलाक़ात हो गई

हफ़ीज़ जालंधरी

Dekha jo teer kha ke kami-gaah ki taraf
Apne hi doston se mulaaqaat ho gai!

Hafeez Jalandhari

-3-

दोस्ती अपनी भी असर रखती है “‘फ़राज़”
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो

अहमद फ़राज़

Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho

Ahmad Faraz

-4-

आ गया जौहर अजब उल्टा ज़माना क्या कहें
दोस्त वो करते हैं बातें जो अदू करते नहीं

(अदू  =  दुश्मन, शत्रु)

माधव राम जौहर

Aa gaya Jauhar ajab ulta zamaana kya kahein
Dost wo karte hain baatein jo aoo karte nahin

Madhav Ram Jauhar

-5-

चार दिन की बात है क्या दोस्ती क्या दुश्मनी
काट दो इनको खुशी से यार हँसते-हँसते

गुमनाम भरतपुरी

Chaar din ki baat hai kya dosti kya dushmani
Kaat do inko khushi se yaar hanste-hanste

Gumnam Bharatpuri

-6-

भूल शायद बहुत बड़ी कर ली
दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली

बशीर बद्र

Bhool shayad bahut badi kar li
Dil ne duniya se dosti kar li

Bashir Badr

-7-

ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए
तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए

अहमद फ़राज़

Ye kah kar mujhe mere dushman hansta chhod gaye
Tere dost kaafi hain tujhe rulane ke liye

Ahmad Faraz

-8-

साफ़ कब इम्तिहान लेते हैं वो तो दम देके जान लेते हैं
ज़िद हर एक बात में नहीं अच्छी दोस्त की दोस्त मान लेते हैं

दाग देहलवी

Saaf kab imtihaan lete hain wo to dam deke jaan lete hain
Zid har ek baat mein nahin acchhi dost ki dost maan lete hai

Dagh Dehlvi

-9-

रफ़ीक़ों से रक़ीब अच्छे जो जल कर नाम लेते हैं
गुलों से ख़ार बेहतर हैं जो दामन थाम लेते हैं

(रफ़ीक़ =  दोस्त;   रक़ीब  =  दुश्मन;   गुल  =  फूल;  ख़ार  =  कांटा)

अज्ञात

Rafeekon se raqeeb acchhe jo jal kar naam lete hain
Gulon se khaar behtar hain jo daaman thaam lete hain

Unknown

-10-

दोस्तों मैं कोई ख़ुदा तो न था
तुम ने फिर क्यूँ भुला दिया मुझ को

ताहिर तिलहरी

Doston mein koi khuda to na tha
Tum ne phir kyun bhula diya mujh ko

Tahir Tilhari

****

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 Shares