Shayari on friendship in hindi | Friendship शायरीं प्रसिद्ध शायरों की कलम से Part- 5

Love Heart Friendship Trust Feeling Eternity

Friendship shayari in hindi, हिंदी शायरी दोस्ती के लिये, friendship shayari in english

-1-

दोस्ती अपनी भी असर रखती है फ़राज़
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो

अहमद फ़राज़

Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho

Ahmad Faraz

-2-

हम को अग़्यार का गिला क्या है
ज़ख़्म खाएँ हैं हम ने यारों से

साहिर होशियारपुरी

Hum ko agyaar ka gila kya hai
Zakhm khaayen hain hum ne yaaron se

Sahir Hoshiarpuri

-3-

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर

अहमद फ़राज़

Mere doston ki pehchaan itni musqil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar

Ahmad Faraz

-4-

मेरे दोस्त की पहचान यही काफी है
वो हर शख्स को दानिस्ता खफा करता है

अहमद फ़राज़

Mere dost ki pehchan yahi kaafi hai
Wo har shakhs ko danista khafa karta hai

Ahmad Faraz

-5-

लाख बेमेहर सही दोस्त तो रखते हो “फ़राज़”
इन्हें देखो कि जिन्हें कोई सितमगर ना मिला

अहमद फ़राज़

Laakh bemehar sahi dost to rakhte ho “Faraz”
Inhein dekho ki jinhein koi sitamgar na mila

Ahmed Faraz

-6-

तुम तक़ल्लुफ़ को भी इख़लास समझते हो “फ़राज़”
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला

अहमद फ़राज़

Tum takalluf ko bhi ikhlaas samjhte ho “Faraz”
Dost hota nahin har haath milaane waala

Ahmad Faraz

-7-

दोस्ती अपनी भी असर रखती है “‘फ़राज़”
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो

अहमद फ़राज़

Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho

Ahmad Faraz

-8-

“शुजा” वो ख़ैरियत पूछें तो हैरत में न पड़ जाना
परेशाँ करने वाले ख़ैर-ख़्वाहों में भी होते हैं

शुजा ख़ावर

“Shuza” wo khairiyat pooncchen to hairat mein na pad jaana
Pareshan karne waale khair-khwaahon mein bhi hote hain

Shuja Khawar

-9-

आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं
जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं

जिगर मुरादाबादी

Aa ke tujh bin is tarah ae dost ghabrata hoon main
Jaise har shay mein kisi shay ki kami paata hun main

Jigar Moradabadi

-10-

ये फ़ित्ना आदमी की ख़ाना-वीरानी को क्या कम है
हुए तुम दोस्त जिस के दुश्मन उस का आसमाँ क्यूँ हो

मिर्ज़ा ग़ालिब

Ye fitna aadami ki khaana-veerani ko kya kam hai
Hue tum dost jis ke dushman us ka aasman kyun ho

Mirza Ghalib

****

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 Shares