Category: पूजा पाठ और आरतियां

Hartalika Teej Katha in Hindi । हरतालिका तीज व्रत कथा, पूजा विधि-विधान

हिन्दु धर्म में हरतालिका तीज_Hartalika Teej Vrat का व्रत सबसे बड़ा व्रत माना जाता है। यह तीज ता त्यौहार भाद्रपद शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है। यह त्यौहार मुख्यरूप से महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। कुंवारी लड़कियों के लिए भी यह हरतालिका का व्रत श्रेष्ठ माना गया है। हरतालिका तीज में भगवान शिव माता गौरी

वास्तु शास्त्र- भगवान श्रीगणेश जी की मूर्ति को स्थापित करते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए

Vasthu for placing lord ganesha idol at home in hindi : गणेश चतुर्थी का पर्व भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष को मनाया जाता है। शिवपुराण के अनुसार भगवान श्रीगणेश का जन्म इसी दिन हुआ ता। गणेषोत्सव 10 दिवस मनाया जाता है और 11 वे दिन यानी अंत चतुर्दशी पर गणेश प्रतिमाऔं के विसर्जन के साथ इसका

यदि आपके घर में स्थापित है शिवलिंग को तो इन बातों का रखें ध्यान

शिव जी को देवों का देव महादेव कहा जाता है। शिव हिन्दु धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक हैं। शिवपुराण के अनुसार शिवलिंग बहुत संवेदनशील होता है और इनकी थोड़ी ही पूजा अर्चना से भी शुभ फल मिल जाते हैं। शिवलिंग को घर में स्थापित करने पर हमे कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना

नांग पंचमी की पौराणिक कहानी

नाग पंचमी हिन्दुओं का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। सावन माह में शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाम पंचमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन नाग देवता यानि सर्प की पूजा की जाती है, उन्हे दूध आदि पिलाया जाता है। आइये जानते हैं नांगपंचमी की पौराणिक कथा के बारे में.. नाग पंचमी की पौराणिक

सावन माह में भोले शंकर जी को इन स्तुति, स्रोत व आरती से करें प्रसन्न

सावन का महीना भगवान शिव जी को बहुत प्रिय है। इस महीने शिवभक्त मंदिरों में जाकर और भी कई तरीकों से उन्हे प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं। भगवान शिवजी को प्रसन्न करने के लिए अनेक मंत्र, स्तुति व स्रोतों की रचना की गयी है। यदि सावन में इन स्तुतियों व स्रोतों का पाठ किया

सावन के महीने में नहीं करना चाहिए ये काम

sawan mein nahi kare ye kaam: हिंदी पांचाग में श्रावण मास का विशेष महत्व माना जाता है, क्योंकि यह शिवजी की भक्ति का महीना माना जाता है। कहा जाता है कि इस महीने में भगवान शिवजी की पूजा करने से वो प्रशन्न होते है और उनकी पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों के सभी दूःख दर्द दूर